हिलेरी का 'गधा' या ट्रंप का 'हाथी'?

इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत में कांग्रेस के 'पंजे', भारतीय जनता पार्टी के 'कमल', लालू की 'लालटेन', मुलायम की 'साइकिल', मायावती के 'हाथी' और केजरीवाल की 'झाड़ू' की तो याद है न!

यह भी पढ़ें: अमरीकी चुनाव: मुद्दों पर ट्रंप और हिलेरी का पक्ष

कुछ इसी तरह ज़िक्र हो रहा है अमरीका में हिलेरी क्लिंटन के 'गधे' और डोनाल्ड ट्रंप के 'हाथी' के बीच छिड़ी जंग का.

दरअसल, अमरीका की रिपब्लिकन पार्टी का चुनाव चिह्न हाथी है, जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी का चिह्न गधा है.

डेमोक्रेटिक पार्टी के डंकी या गधे का क़िस्सा ये है कि उसे 1828 के राष्ट्रपति चुनावों के दौरान पोस्टर के ज़रिए प्रचार के लिए इस्तेमाल किया गया.

डेमोक्रेटिक उम्मीदवार एंड्रयू जैकसन ने इसे इस्तेमाल किया, क्योंकि उनके विपक्षी उन्हें इस नाम से बुलाते थे.

यह भी पढ़ें: आख़िर अमरीकी चुनावों में इन शब्दों का मतलब क्या है?

इसके बाद डेमोक्रेटिक उम्मीदवार थॉमस नस्ट ने गधे का ही कार्टून अपने प्रचार में इस्तेमाल किया और फिर 19वीं सदी के अंत तक ये पार्टी का लोकप्रिय चुनाव चिह्न बन चुका था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वैसे भारत में भी तमाम राजनीतिक दलों के चुनाव चिह्नों की पहचान उनके नेताओं से जुड़ी है.

मिसाल के तौर पर कांग्रेस का 'पंजा' जिसे नेहरू-गाँधी परिवार ने या फिर लालू यादव ने जिस तरह 'लालटेन' का प्रचार कर उसे पूरे बिहार में लोकप्रिय बना दिया.

यह भी पढ़ें: सख़्त अनुशासन के बीच पले बढ़े डोनल्ड ट्रंप

उत्तर प्रदेश में 2012 के यूपी चुनावों में मुलायम के बेटे अखिलेश यादव ने चुनाव चिह्न 'साइकिल' से पूरे प्रदेश की यात्रा कर डाली.

अगर अमरीका पर लौटें तो रिपब्लिकन पार्टी के चुनाव चिह्न हाथी की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के चुनावी अभियान में इलिनॉय के एक स्थानीय अख़बार ने हाथी का इस्तेमाल रिपब्लिकन पार्टी कैम्पेन के लिए किया.

वजह शायद ये रही होगी कि हाथी शक्ति का प्रतीक होता है!

साल 2016 के अमरीकी राष्ट्रपति चुनावों में भी लगभग सभी राज्यों में हैट, टी-शर्ट्स, मोबाइल फ़ोन कवर और झंडों पर दोनों पार्टियों के रंग के साथ चुनाव चिह्न भी दिख जाते हैं.

कुछ घंटों की ही बात है, पता चलने वाला है कि इस बार बाज़ी हाथी के नाम रहेगी या गधे के!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे