'मेरा भाई मानसिक रूप से अस्थिर नहीं'

Image caption लापता जेएनयू छात्र नजीब अहमद की मां फ़ातिमा नफ़ीस

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के लापता छात्र नजीब अहमद की मां ने मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की है. राजनाथ सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वो नजीब को ढूंढने में मदद करेंगे जिनका 15 अक्टूबर से कोई अता-पता नहीं है.

नजीब की मां फ़ातिमा नफ़ीस और उनके परिवार के सदस्यों ने गृह मंत्री से नजीब का पता लगाने की अपील की है.

नजीब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में बायोटेक्नोलॉजी के छात्र हैं और उत्तर प्रदेश में बदायूं के रहनेवाले हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने नजीब की मां और उनके रिश्तेदारों की बातें और उनकी मांग बहुत ध्यान से सुनीं और उन्हें बताया कि दिल्ली पुलिस ने नजीब का पता लगाने के लिए विशेष दल का गठन किया है और वो व्यक्तिगत रूप से जांच पर नज़र रख रहे हैं.

सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्री ने पीड़ित परिवार को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

बदायूं से समाजवादी पार्टी के सांसद धर्मेंद्र यादव भी नजीब के परिवार के साथ गृह मंत्री के पास गए थे. उन्होंने बताया कि गृह मंत्री ने कहा है कि नजीब को जल्द से जल्द तलाशने की कोशिश की जा रही है.

धर्मेंद्र यादव ने कहा, "अगर पुलिस नजीब का पता नहीं लगा पाती तो हम अदालत का दरवाज़ा खटखटाएंगे और इसे संसद में भी उठाएंगे."

नजीब की बहन सदफ़ ने इन आरोपों को ख़ारिज किया है कि नजीब मानसिक रूप से अस्थिर थे और कहा कि ढूंढने की बजाए उन्हें बदनाम करने की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने कहा, "नजीब ने यूनिवर्सिटी परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन किया है. वो एक पढ़ाकू बच्चा है."

उन्होंने प्रश्न किया, "जो व्यक्ति एक प्रतिष्ठित संस्थान में अध्ययन कर रहा हो वो मानसिक रूप से अस्थिर कैसे हो सकता है. मैं निवेदन करती हूं कि नजीब को बदनाम न किया जाए. उन्हें नींद से जुड़ी परेशानी थी जो कि पढ़ाई का दबाव रहने की वजह से छात्रों में होती है. उन्हें और कोई परेशानी नहीं थी."

27 वर्षीय नजीब 15 अक्टूबर को जेएनयू कैंपस से लापता हैं. एक रात पहले छात्र संगठन एबीवीपी के सदस्यों के साथ साथ कथित रूप से उनका झगड़ा हुआ था.

उनकी मां फ़ातिमा नफ़ीस ने दावा किया कि उन्होंने झगड़े वाली रात नजीब से बात की थी और वो आश्वस्त हैं कि नजीब खुद कैंपस छोड़ कर नहीं जा सकते हैं.

उन्होंने कहा, "मैंने उससे रात के 11 बजे बात की थी, वो डिप्रेस्ड नहीं थे. वो मेरा इंतज़ार कर रहा था. उसने मुझे कॉल किया था. वो खुद कहीं नहीं गया, उसे अगवा किया गया है."

नजीब की मां को शनिवार को पुलिस ने उस समय हिरासत में लिया था जब वो इंडिया गेट पर एक मार्च निकालने का प्रयास कर रही थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)