पहले वोट का वादा, फिर सेक्स

इमेज कॉपीरइट AFP

वोट डालने के लिए एक ऐसी अपील, जो आपने आज तक ना देखी होगी, ना सुनी होगी.

कीनिया में एक सांसद ने महिलाओं से अपील की है कि वो अपने पति के साथ तब तक सेक्स ना करें जब तक कि वो 8 अगस्त को होने वाले चुनावों के लिए मतदाता के तौर पर अपना पंजीकरण नहीं करा लेते.

मिशि मबोको तटीय शहर मोम्बासा से महिलाओं की प्रतिनिधि हैं. उन्होंने कहा कि विपक्षी वोटों को हाशिये पर धकेलने की यह सबसे बढ़िया रणनीति है.

मबोको ने कहा, "महिलाओं आपको इस रणनीति को अपनाना चाहिए. ये सबसे बढ़िया है. उनके साथ संभोग से इनकार कर दीजिए जब तक कि वे आपको अपना वोटर कार्ड नहीं दिखा देते."

17 फरवरी को पंजीकरण का आख़िरी दिन है.

मबोको ने कहा कि सेक्स एक शक्तिशाली हथियार है और इसका इस्तेमाल पुरुषों को मतदाता के रूप में पंजीकरण कराने के लिए करना चाहिए.

यहाँ सोमवार से मतदाता पंजीकरण का कार्य शुरू हुआ है.

स्टैंडर्ड अख़बार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ उन्होंने कहा कि इस बहिष्कार का असर उनके पति पर नहीं होगा क्योंकि उन्होंने पहले ही पंजीकरण करा लिया है.

कीनिया के राष्ट्रपति उहूरू केनयट्टा दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव लड़ रहे हैं.

ऐसी संभावना है कि मबोको की पार्टी ओडीएम समेत विपक्षी पार्टियों के गठबंधन के समर्थन वाले एक उम्मीदवार से उन्हें चुनौती मिल सकती है.

मबोको का कहना है कि अगर समर्थक बड़ी संख्या में अपना पंजीकरण कराते हैं तो विपक्षी गठबंधन के चुनाव जीतने के आसार ज़्यादा हैं.

कीनिया में संभोग का बहिष्कार करने की अपील सामान्य बात है. 2009 में महिला कार्यकर्ताओं ने हफ़्ते भर तक सेक्स हड़ताल की थी.

तब उन्होंने तत्कालीन राष्ट्रपति मवाई किबाकी और प्रधानमंत्री राइला ओडिंगा और उनसे सहयोगियों के बीच झगड़े को दूर कर उनके बीच संधि कराने के लिए ये क़दम उठाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)