यूपीः मुस्लिम विधायकों की संख्या घटकर एक तिहाई

इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में केवल 24 मुस्लिम विधायक चुने जा सके हैं. पिछले विधानसभा चुनाव में ये संख्या 69 थी.

यानी पिछले चुनाव के मुक़ाबले मुस्लिम विधायकों की संख्या घटकर लगभग एक तिहाई रह गई है.

समाजवादी पार्टी के टिकट पर 16, बहुजन समाज पार्टी के पाँच और कांग्रेस के दो मुस्लिम प्रत्याशियों को जीत मिली है.

मुसलमान बहुल सीटें जहां जीत गई बीजेपी

भाजपा की जीत का मतलब क्या निकालें मुसलमान?

Image caption आज़म ख़ान रामपुर से नवीं बार विधायक चुने गए

आज़म ख़ान और मुख़्तार अंसारी ने सीटें बचाईं

समाजवादी पार्टी के नेता आज़म ख़ान रामपुर से नवीं बार निर्वाचित हुए.

उनके बेटे अब्दुल्ला आज़म ख़ान ने स्वार सीट से पहली बार जीतकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की.

मऊ सीट से मुख़्तार अंसारी लगातार पाँचवीं बार विधायक चुने गए.

उन्होंने चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी का दामन थामा था.

इमेज कॉपीरइट HARSH JOSHI
Image caption मुख़्तार अंसारी ने लगातार पाँचवीं बार अपनी सीट जीती

दलगत स्थिति

24 मुस्लिम विधायकों में सबसे ज़्यादा 16 विधायक समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुने गए हैं.

पिछली विधानसभा में समाजवादी पार्टी के मुस्लिम विधायकों की संख्या 42 थी.

बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर केवल पाँच मुस्लिम उम्मीदवारों को जीत मिल सकी. बीएसपी को इस बार चुनाव में केवल 19 सीटें मिल सकी हैं.

पिछली विधानसभा में पार्टी के 17 मुस्लिम विधायक थे.

पार्टी ने इस बार लगभग 100 मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था.

कांग्रेस के केवल दो मुस्लिम उम्मीदवार जीत सके. नई विधानसभा में कांग्रेस को मात्र सात सीटें मिली हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे