पायलटों को सरकार की चेतावनी

Image caption एयर इंडिया भारी घाटे में चल रहा है.

भारत सरकार ने एयर इंडिया के हड़ताली पायलटों को चेतावनी दी है कि फ़ौरन काम पर लौटें वर्ना प्रबंधन बुधवार को अपने हिसाब से फ़ैसले करेगा.

नागरिक उड्ड्यन मंत्री प्रफुल्ल पटेल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा है कि एयर इंडिया मौजूदा ढांचे के खर्च को वहन करने की स्थिति में नहीं है लेकिन साथ ही ये भी कहा कि खर्च में कोई भी कटौती कर्मचारियों से बातचीत के बाद ही की जाएगी.

उनका कहना था, “प्रबंधन ने अन्य खर्चों के साथ साथ विशेष भत्ते में कटौती का सुझाव सामने रखा था लेकिन उसपर औपचारिक फ़ैसला नहीं हुआ है. ऐसे में कोई वजह नहीं है कि पायलट या दूसरे कर्मचारी इससे दुखी हों.’’

उन्होंने कहा कि कुछ एक्ज़ीक्यूटिव पायलटों के भत्तों में कटौती का फ़ैसला हो गया था लेकिन उसे भी अभी लागू नहीं किया गया है.

उनका कहना था कि पूरी दुनिया में उड्डयन इंडस्ट्री मुश्किलों का सामना कर रही है और भारत भी इससे अछूता नहीं है.

उनका कहना था, “सरकार एयर इंडिया को उबारने के लिए प्रतिबद्ध है और पायलट इस बात को समझें.’’

उनका कहना था कि सरकार ने तीन महीने पहले एयर इंडिया को उबारने के लिए कमिटी बनाई थी और उसमें फ़ैसला हो चुका है कि सरकार स्थिति को सुधारने के लिए 5000 करोड़ रूपए का निवेश करेगी.

उन्होंने कहा कि एयर इंडिया प्रबंधन भी स्थिति को सुधारने में जुटा हुआ है लेकिन ये थोड़ा बहुत दर्द सहे बगैर नहीं आ सकता.

एयर इंडिया के कई एक्ज़ीक्यूटिव पायलट पिछले हफ़्ते अपने को बीमार बताकर छुट्टी पर चले गए.

कई उडा़नें रद्द हुई हैं और यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा है.

सरकार ने दूसरे एयरलाईंस के प्रतिनिधियों से अनुरोध किया है कि वो इस मौके का फ़ायदा उठाकर किराए में वृद्धि नहीं करें.

संबंधित समाचार