बॉश्च करेगी भारत में निवेश

कार इंजन
Image caption बॉश्च कंपनी डीजल के इंजन बनाती है

जर्मनी की जानी मानी इंजीनियरिंग कंपनी बॉश्च ने भारत में अगले दो वर्षों में दो हज़ार करोड़ रुपए का निवेश करने का फ़ैसला किया है.

बॉश्च का कहना है कि वो ये निवेश डीजल इंजन के निर्माण में लगाएंगे क्योंकि भारत में डीजल इंजनों की खपत बढ़ रही है.

कंपनी का कहना है कि उनका डीजल इंजन गैसोलीन से चलने वाले इंजनों की तुलना में बहुत किफ़ायती है.

चीन और जापान के बाद भारत एशिया के तीसरे सबसे बड़े कार बाज़ार के रुप में उभर कर सामने आया है.

भारत का ऑटो बाज़ार वैश्विक ऑटो बाज़ार का पाँच प्रतिशत है जिसे देखते हुए बॉश्च भारत में पैसे लगा रहा है.

डीजल इंजन के क्षेत्र में शोध करने वाली और इस तरह के इंजन बनाने वाली बॉश्च ने एक बयान जारी कर कहा है कि भारत में लगातार डीजल इंजनों की मांग बढ़ रही है.

बयान में कहा गया है, ‘‘ हमारा डीजल इंजन अन्य गैसोलीन इंजनों की तुलना में तीस प्रतिशत कम ईंधन खर्च करता है.’’

कंपनी के ग्रुप चेयरमाने बर्न्ड बोहर ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भारत में कारों की बिक्री काफ़ी बढ़ी है और यह एक बड़े बाज़ार के रुप में उभरा है.

संबंधित समाचार