बैंकिंग सुधार बिल का समर्थन करें: ओबामा

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बैंकरों से अपील की है कि वो वित्तीय बाज़ारों की निगरानी से संबंधित प्रस्तावों का समर्थन करें.

उन्होंनें बैंकिंग सुधारों का विरोध करने वालों की तीखी आलोचना की है और आगाह किया है कि अगर बदलाव नहीं लाए गए तो आर्थिक संकट के बादल फिर से मंडरा सकते हैं.

न्यूयॉर्क में बैंकरों और वित्तीय मामलों के विशेषज्ञों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सुधार वित्तीय क्षेत्र के हित में हैं और बैंकरों को इनका विरोध नहीं करना चाहिए.

अगले हफ़्ते सीनेट में निगरानी से संबंधित बिल पर बहस होनी है. प्रतिनिधि सभा ने दिसंबर में इसे पारित कर दिया था.

'दोबारा न हो ग़लती'

इन प्रस्तावों के तहत उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए एक नई संस्था का गठन होगा जिसके पास ये अधिकार होगा कि वो उधारी के सारे मामलों पर नज़र रख सके. लेकिन वित्तीय क्षेत्र से जुड़े कई लोग इन प्रस्तावों के ख़िलाफ़ हैं.

ओबामा ने अपने भाषण में कहा है कि वे मुक्त बाज़ार के ख़िलाफ़ नहीं हैं. उनका कहना था, “मुक्त बाज़ार का मतलब ये नहीं होना चाहिए कि आपको कुछ भी हासिल करने का मुफ़्त लाइसेंस मिल जाए, आप कोई भी तरीका अपनाने लगें.”

राष्ट्रपति ने कहा है कि ये बेहद ज़रूरी है कि आर्थिक संकट से सबक लिया जाए ताकि ऐसी ग़लती दोबारा न हो.

सुधार प्रस्तावों के तहत 50 अरब डॉलर का एक कोष बनाए जाने की भी बात है जो बैंकों के लीक्विडेशन में मदद करेगा.

सीनेट में ओबामा के पास 41 रिपब्लिकन सदस्यों के मुकाबले 59 डेमोक्रेटिक सदस्यों का बहुमत है जो वांछित संख्या से एक कम है.