प्रभावित क्षेत्रों में पहुँचे ओबामा

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि जिन तटीय इलाक़ों में तेल रिसाव हुआ है या वहाँ फैल सकता है वहाँ तीन गुना ज़्यादा कर्मचारी तैनात किए जाएँ.

अप्रैल में बीपी के तेल कुएँ में आग लगने के बाद वहाँ विस्फोट हुआ था और तब से तेल रिसाव हो रहा है. इसमें 11 लोग मारे गए थे और लाखों गैलन तेल समुद्र में फैल गया है.

ओबामा इन क्षेत्रों के दौरे पर थे. दौरे के बाद ओबामा ने कहा है कि प्रभावित लोगों की मदद के लिए हर मुमकिन कदम उठाए जाएँगे.

तेल कंपनी बीपी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टोनी हेवर्ड का कहना है कि तेल रिसाव रुकने को लेकर नतीजे अगले 48 घंटे में ही स्पष्ट होंगे.

दरअसल मेक्सिको की खाड़ी में एक महीने से भी ज़्यादा समय से जारी तेल रिसाव को बंद करने की नई पहल शुरु हुई है जिसे 'टॉप किल' का नाम दिया गया है.

टॉप किल

टोनी हेवर्ड ने कहा है कि पाँच हज़ार फ़ीट की गहराई पर ये काम योजना के मुताबिक चल रहा है.

लुईज़ियाना के तटीय क्षेत्रों में तेल की परत जमा हो गई है जिससे मछली उद्योग को ख़तरा पैदा हो गया है.

राष्ट्रपति ओबामा ने निर्देश दिए हैं कि अतिरिक्त कर्मचारी तेल रिसाव से प्रभावित बीच की सफ़ाई करेंगे और इससे प्रभावित पशुओं और पक्षियों की निगरानी करेंगे.

टॉप किल योजना के तहत समुद्र में रोज़ कम-से-कम आठ लाख लीटर तेल फेंक रहे तेल के कुएँ में कीचड़ और रसायनों का एक मिश्रण डाला जाएगा जिसे 'ड्रिलिंग मड' कहा जाता है.

अगर कुएँ के मुँह में ड्रिलिंग मड भरने में सफलता मिलती है तो बाद में उसके ऊपर कॉंक्रीट की ढलाई कर दी जाएगी.

सतह से डेढ़ किलोमीटर नीचे समुद्र तल में स्थित कुएँ में ड्रिलिंग मड भरने का काम आसान नहीं होगा.

इससे पहले तेल कुएँ पर लोहे की भारी-भरकम कुप्पी डालने समेत तेल रिसाव रोकने या सीमित करने के बीपी के सारे प्रयास नाकाम हो चुके हैं.

समुद्र की इतनी गहराई में टॉप किल प्रक्रिया इससे पहले कभी नहीं अपनाई गई है, इसलिए कई विशेषज्ञ इसकी सफलता की संभावना 50 प्रतिशत ही मान रहे हैं.

संबंधित समाचार