बीपी के शेयरों में भारी गिरावट

तेल कुंआ
Image caption बीपी को 27 जुलाई को लाभांश की घोषणा करनी है

इस आशंका के साथ कि अमरीकी राष्ट्रपति तेल कंपनी बीपी पर भारी जुर्माना लगा सकते हैं, उसके शेयरों में भारी गिरावट आई है. लंदन शेयर बाज़ार में गुरुवार को कारोबार के दौरान बीपी के शेयरों के दामों में 40 प्रतिशत तक की गिरावट आई.

मैक्सिको की खाड़ी में गत 20 अप्रैल को बीपी के तेल कुँए शुरू हुए रिसाव के बाद से उसके शेयरों की कीमत आधी से अधिक गिर चुकी है.

गुरुवार को बीपी के शेयर 345 पेंस के भाव से खुले जो कि 1997 के बाद से इसकी सबसे कम कीमत है हालांकि बाद में इसमें कुछ सुधार भी देखा गया.

बीपी अमरीका के न्यूयार्क के शेयर बाज़ार में भी सूचीबद्ध है. वहाँ बुधवार रात कारोबार बंद होते समय उसके शेयरों में 16 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई.

लंदन शेयर बाजार में बुधवार को लाभांश में कटौती की आशंका के बीच बीपी के शेयरों में साढ़े चार फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी.

बीपी को 27 जुलाई को अगले लाभांश की घोषणा करनी है.

राजनीतिक पहल

अमरीकी नेता ब्रिटिश तेल कंपनी बीपी पर जमकर निशाना साध रहे हैं क्योंकि वहाँ इस साल नवंबर में कांग्रेस के मध्यावधि चुनाव होने हैं.

लंदन के मेयर बोरिस जॉनसन ने बीबीसी से कहा, ''बीपी ने बहुत बड़ी क़ीमत चुकाई है.''

उन्होंने इस बात पर चिंता जताई कि तेल का रिसाव अमरीका में ब्रिटेन की छवि बिगड़ने की शुरुआत थी.

वहीं ब्रिटेन के विदेश सचिव विलियम हेज ने इससे इनकार करते हुए कहा, ''किसी ने भी किसी भी मामले में ब्रिटेन विरोधी बात नहीं की है.''

अफ़ग़ानिस्तान यात्रा के दौरान ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने इस बात की पुष्टि की कि बराक ओबामा के साथ टेलीफ़ोन पर होने वाली नियमित बातचीत में वे इस पर चर्चा करेंगे.

उन्होंने कहा, ''अमरीकी सरकार की चिंता को मैं पूरी तरह से समझता हूँ.''

संबंधित समाचार