युआन पर चीन का लचीला रुख

युआन

युआन की क़ीमतें कम रखने के लिए चीन की आलोचना होती रही है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने युआन की दरों में लचीला रुख अपनाने की चीन की घोषणा का स्वागत किया है.

ओबामा का कहना था कि यह वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था के सुधार की दिशा में एक ‘सकारात्मक क़दम’ है.

अमरीका के राजनेता लगातार कहते रहे हैं कि युआन की क़ीमत कम लगाई जाती रही है जिसका लाभ चीन को होता रहा है. यह मामला अगले हफ़्ते जी -20 की बैठक में भी उठने की पूरी संभावना है.

अगले हफ़्ते टोरंटो में जी-20 देशों की बैठक में इस मुद्दे पर और कई अन्य मुद्दों पर बातचीत होगी

अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा

शनिवार को चीन के सेंट्रल बैंक ने घोषणा की है कि वह युआन की खरीद बिक्री की दरों की नीति पर और लचीला रवैया अपनाएगा. बैंक के अनुसार वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था में सुधार के कारण ही वो ऐसा कर पा रहे हैं.

हालांकि बैंक ने इस बारे में अधिक ब्योरा नहीं दिया है और साथ ही कहा है कि इस समय ‘किसी बड़े बदलाव की ज़रुरत नहीं है.’

जुलाई 2008 से ही 6.83 चीनी युआन एक डॉलर के बराबर रहा है. आलोचकों का कहना है कि चीन ने जानबूझकर युआन की क़ीमत कम कर रखी है ताकि उसके निर्यातकों को फ़ायदा हो.

चीन की घोषणा के बाद अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि यह संतुलित वैश्विक अर्थव्यवस्था की दिशा में एक सकारात्मक क़दम है. उन्होंने कहा, ‘‘ अगले हफ़्ते टोरंटो में जी-20 देशों की बैठक में इस मुद्दे पर और कई अन्य मुद्दों पर बातचीत होगी.’’

अमरीकी वित्त मंत्री टिमोथी गिटनर ने इस क़दम का सतर्कतापूर्वक स्वागत किया है.उन्होंने कहा, ‘‘ यह महत्वपूर्ण क़दम है लेकिन देखना होगा कि वो अपनी मुद्रा को कितना बढ़ने देते हैं.’’

उल्लेखनीय है कि अप्रैल महीने में गिटनर ने वो रिपोर्ट देने में देरी की थी जिसके तहत चीन को करेंसी के साथ छेड़छाड़ करने वाला घोषित किया जा सकता था. माना जा रहा है कि अमरीका ने चीन पर दबाव बनाने के लिए ही ऐसा किया था.

अमरीकी कांग्रेस में कई नेताओं का मानना है कि चीन द्वारा युआन की वैल्यू कम रखने का सीधा असर अमरीका की स्थानीय अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.