जी-8: उत्तर कोरिया की आलोचना

जी-8 देशों के नेताओं ने दक्षिण कोरिया का युद्धपोत डुबोने के लिए उत्तर कोरिया की आलोचना की है.

परमाणु गतिविधियों के लिए भी उत्तर कोरिया और ईरान की जी-8 देशों ने निंदा की है.जी-8 और जी-20 सम्मेलन कनाडा के टोरंटो में चल रहा है.

इसराइल द्वारा ग़ज़ा की नाकेबंदी के बारे में जी-8 देशों ने कहा कि ये ज़्यादा देर नहीं चल सकती.

नेताओं ने ये भी स्वीकार किया कि विश्व में ग़रीबी कम करने के संयु्क्त राष्ट्र के लक्ष्य को हासिल नहीं किया जा सका है क्योंकि सारी कोशिशें आर्थिक मंदी से निपटने पर केंद्रीत थी.

जी-8 सम्मेलन के बाद जारी बयान में सदस्य देशों ने कहा, हम 26 मार्च को दक्षिण कोरिया के युद्धपोत पर हुए हमले की निंदा करते हैं जिसमें 46 लोग मारे गए.

बयान में उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षणों पर गहरी चिंता जताई गई. जी-8 के बयान में ईरान से आग्रह किया गया है कि वो अपने विवादित परमाणु कार्यक्रम पर पारदर्शिता बरते.

संयुक्त राष्ट्र ने ईरान के ख़िलाफ़ चौथी पर प्रतिबंध लगाए हैं ताकि वो परमाणु संवर्धन का काम रोक दे.

ग़ज़ा के बारे में जी-8 के बयान में लोगों के मारे जाने पर ख़ेद जताया है.

संबंधित समाचार