व्यापक आर्थिक सुधारों को सीनेट की मंज़ूरी

बराक ओबामा
Image caption बराक ओबामा ने नए नियमों को उपभोक्ताओं की सुरक्षा को बढ़ावा देने वाला कहा है.

अमरीकी सीनेट ने देश के वित्तीय नियमों में एक बड़े फेरबदल को मंज़ूरी दे दी है. इन सुधारों का मक़सद वर्ष 2008 में आए आर्थिक सकंट जैसी स्थिती से बचना है.

कई महीनों की राजनीतिक जद्दोजहद के बाद सीनेट का ये मत राष्ट्रपति बराक ओबामा के लिए एक बड़ी जीत है.

मंज़ूरी के बाद ओबामा ने कहा है कि नए नियम अपभोक्ताओं को मज़बूत सुरक्षा प्रदान करेंगे. उन्होंने कहा कि भविष्य में कभी भी शेयर बाज़ार की ग़लतियों का ख़ामियाजा अमरीकी लोगों को नहीं भुगतना पड़ेगा.

सीनेट ने नए वित्तीय नियमों को 39 के मुक़ाबले 60 मतों से मंज़ूरी दी है.

सुधार

सुधारों का उद्देश्य बैंकों की जोखिम लेने की क्षमता को घटाना और उपभोक्ताओं की सुरक्षा को बढ़ावा देना है.

नए नियमों में ऐसी किसी भी बड़ी कंपनी में हस्ताक्षेप का प्रावधान है जिसकी नाकामयाबी से अमरीका की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचने का ख़तरा हो.

ओबामा ने कहा है कि अब कंपनियों के ‘रहस्यपूर्ण समझौतों’ का अंत होगा.

राष्ट्रपति ओबामा ने कहा, “आर्थिक मंदी आने से पहले जो वित्तीय संकट आया था तब भी मैंने वॉल स्ट्रीट के बारे में कहा था कि उपभोक्ताओं की सुरक्षा और अर्थव्यवस्था के लिए सुधारों की ज़रुरत है.”

उधर नए नियमों की मंज़ूरी के तुरंत बाद अमरीका के केंद्रीय बैंक के चेयरमैन बेन बर्नानके ने कहा, “वित्तीय संकट की पुनरावृत्ति को रोकने में नए नियम दूरगामी क़दम साबित होंगे.”

संबंधित समाचार