'स्ट्रेस टेस्ट' में पास हुए अधिकतर बैंक

यूरोपीय संघ का झंडा
Image caption 'स्ट्रेस टेस्ट' में अधिकतर बैंक कामयाब रहे हैं.

यूरोपीय संघ ने अपने क्षेत्र के 91 बैंकों पर एक ‘स्ट्रेस टेस्ट’ किया है जिसका मक़सद ये जानना था कि क्या संघ की बैंक प्रणाली एक और आर्थिक मंदी की झेल पाएगी.

जिन 91 बैंकों पर ‘स्ट्रेस टेस्ट’ किया गया उनमें से सात बैंकों को कमज़ोर पाया गया है. लेकिन कुछ जानकारों ने इस टेस्ट की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए हैं.

यूरोप के वित्तीय बाज़ार कुछ बैंकों की आर्थिक मंदी के एक और दौर से निबटने की क़ाबिलियत से चिंतित रहे हैं.

‘स्ट्रेस टेस्ट’ का उद्देश्य ये जानना था कि एक और आर्थिक मंदी का हालत में बैंकों की वित्तीय मज़बूती निर्धारित स्तर से नीचे तो नहीं गिर जाएगी.

इस टेस्ट में सिर्फ़ छोटे बैंक नाकामयाब रहे हैं. सभी बड़े बैंकों समेत अधिकतर बैंक इस टेस्ट में सफल रहे हैं.

यूरोपीय संघ के कई अधिकारियों के मुताबिक इन नतीजों से ये साबित होता है कि बैंकों की सेहत अच्छी है. यूरोप के केंद्रीय बैंक का कहना है कि ये टेस्ट यूरोपीय बैंकों की स्थिरता के लिए एक अहम क़दम हैं.

लेकिन बीबीसी के आर्थिक मामलों के संवाददाता एंड्रयू वॉकर के अनुसार कुछ विश्लेष्क संशय में हैं.

ग्रीस जैसी किसी सरकार के भुगतान नहीं कर पाने जैसी संभावित स्थिती को इस टेस्ट में तवज्जो नहीं दी गई है लेकिन वित्तीय बाज़ार में ऐसी ही किसी संभावना की चिंता है.

साथ ही बैंकों में संभावित नकदी के संकट पर भी ध्यान नहीं दिया गया.

संबंधित समाचार