अमरीकी अर्थव्यवस्था में सुधार पर ऐतिहासिक क़ानून

बराक ओबामा
Image caption इस क़ानून का बनना डेमोक्रैट्स के लिए एक बड़ी जीत मानी जा रही है.

विश्वव्यापी आर्थिक मंदी से पूरी तरह उबरने के लिए अमरीका सरकार ने ऐतिहासिक वित्तीय सुधार कानून को मंजूरी दी है.

इन सुधारों पर हस्ताक्षर करते हुए राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि इनसे उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा होगी, निवेशकों की ताक़त बढ़ेगी और वित्तीय बाजारों में ज्यादा पारदर्शिता आएगी.

उन्होंने कहा कि इन सुधारों के बाद अमरिकी लोगों को अब वॉल स्ट्रीट की ग़लतियों का खामियाज़ा नहीं भुगतना होगा.

राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि वित्तीय सुधारों की बदौलत विफल संस्थाओं को उबारने की कीमत अब करदाताओं को नहीं चुकानी होगी.

उन्होंने कहा कि इस क़ानून से यह सुनिश्चित होगा कि सभी लोग एक ही प्रकार के नियमों का पालन करें ताकि कंपनियाँ क़ीमत और गुणवत्ता के आधार पर एक दूसरे का मुक़ाबला करें न कि हेराफेरी और चालबाज़ी के बल पर.

यह क़ानून ओबामा और डेमोक्रैटिक पार्टी के लिए एक बड़ी जीत माना जा रहा है क्योंकि यह कई महीने के राजनीतिक जोड़तोड़ का बाद पारित हो पाया है. इसे कुछ रिपब्लिकन सदस्यों का ही समर्थन मिल पाया.

हालाँकि अमरीका के उद्योग जगत में इसका भारी विरोध हुआ था.

अनिश्चितता की स्थिति

उधर, अमरीकी फ़ेडरल रिज़र्व के प्रमुख बेन बरनानके ने कहा है कि अमरीकी अर्थव्यवस्था की हालत अभी भी अस्वाभाविक रूप से अनिश्चित बनी हुई है.

उन्होंने कहा कि देश की आर्थिक स्थिति में अगर सुधार नहीं हुआ तो और कड़े क़दम उठाने की ज़रूरत पड़ सकती है.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर लौट आएगी. बरनानके के इस बयान के बाद अमरीकी शेयर बाजारों में तेज़ गिरावट दर्ज की गई.

संबंधित समाचार