एयरलाइन्सों को भारी मुनाफ़े की उम्मीद

Image caption आयाटा के अनुसार सिर्फ़ यूरोप में ही विमानन सेक्टर इस साल मुनाफ़े से दूर रहेगा

दुनिया की विमान सेवा कंपनियों को इस साल कुल 8.9 अरब डॉलर का मुनाफ़ा होने की उम्मीद है.

विमानन क्षेत्र के एक प्रमुख संगठन अंतरराष्ट्रीय वायु यातायात संघ(आयाटा) ने ये भविष्यवाणी करते हुए कहा है कि अंतरराष्ट्रीय एयलाइन्स कंपनियाँ मंदी के दौर से बहुत तेज़ी से और पूरी मज़बूती के साथ बाहर आई हैं.

उल्लेखनीय है कि आयाटा ने जून में इस साल मुनाफ़े का स्तर मात्र ढाई अरब डॉलर के क़रीब रहने की भविष्यवाणी की थी. जबकि मार्च में की गई भविष्यवाणी में इस साल मुनाफ़ा तो दूर, 2.8 अरब डॉलर का घाटा होने का अनुमान लगाया गया था.

आयाटा का कहना है कि यात्रियों की संख्या में गिरावट नहीं होने और ख़र्च में बढ़ोत्तरी नहीं होने के कारण विमानन कंपनियों की स्थिति अपेक्षा से ज़्यादा तेज़ी से बेहतर हुई है.

अनिश्चितता बरक़रार

हालाँकि मुनाफ़े की उत्साहजनक ख़बर देने के साथ आयाटा प्रमुख गिओवानी बिसिगनानी ने चेतावनी भी दी है कि विमानन सेक्टर में अनिश्चितता की आशंका अभी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुई है.

उन्होंने कहा, "हम 8.9 अरब डॉलर के जिस मुनाफ़े की भविष्यवाणी कर रहे हैं वो पिछले दशक भर के दौरान हुए क़रीब 50 अरब डॉलर के घाटे की भरपाई की शुरुआत कर देगा. लेकिन व्यवसाय में ये चक्रीय तेज़ी कब तक बरक़रार रहेगी इसे लेकर संदेह बना हुआ है."

यहाँ ये उल्लेखनीय है कि यूरोप कई विमानन कंपनियाँ अभी तक घाटे के दौर से बाहर नहीं निकल पाई हैं.

आयाटा को आशंका है कि पूरी दुनिया में यूरोप एकमात्र क्षेत्र होगा जहाँ विमानन सेक्टर में इस साल भी घाटा दर्ज होगा. हालाँकि आयाटा के नए अनुमानों के अनुसार नुक़सान क़रीब 1.3 अरब डॉलर का होगा, जो कि जून के 2.8 अरब डॉलर के नुक़सान की आशंका के मुक़ाबले काफ़ी कम है.

संबंधित समाचार