सस्ते मकानों के लिए 200 अरब डॉलर

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption चीन में लोगों के लिए छोटे अपार्टमेंट तक ख़रीदना मुश्किल हो रहा है

चीन में मकानों की बढ़ती कीमतों को देखते हुए सरकार लोगों को सस्ते मकान उपलब्ध कराने के लिए 200 अरब डॉलर खर्च करेगी.

सरकारी आँकड़ो के मुताबिक दिसंबर में लगातार 19वें महीने चीन में मकानों की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. केवल दो शहरों में रुझान उलटा रहा है.

सरकार ने कहा है कि वो इस साल और अगले साल कम आमदनी वाले परिवारों के लिए एक करोड़ नए मकान बनवाएगी या पुराने मकानों की मरम्मत करके देगी.

मकानों की क़ीमत का 40 फ़ीसदी हिस्सा सरकार देगी. बाकी का हिस्सा वो परिवार या कंपनियाँ देंगी जिनको इस कार्यक्रम से फ़ायदा होगा.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि ये बहुत महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है. सरकारी मीडिया के मुताबिक पिछले साल केवल 60 लाख मकान बनाने की योजना भी पूरी नहीं की जा सकेगी.

रोटी, कपड़ा और मकान

चीन में हालात इतने ख़राब हो चुके हैं कि एक छोटा अपार्टमेंट खरीदना भी लोगों के लिए मुश्किल होता जा रहा है.

क़ीमतों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार कोशिश कर रही है कि बाज़ार में अटकलबाज़ी कम हो पाए और उसने स्थानीय प्रशासन से कहा है कि वो मकानों के दाम तय कर दे.

आवासीय मामलों के एक मंत्री का कहना है कि इस सबका मकसद ये था कि मकान उन लोगों को मिले जिन्हें इनकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत है.

प्रॉपर्टी डिवेलपर अभी से शिकायत कर रहे हैं कि सस्ते मकान बनाने से उनके मुनाफ़े पर असर पड़ेगा.चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने कहा है कि आवास बाज़ार की चिंताओं को दूर करने के लिए ज़ोर शोर से काम किया जाएगा.

सरकारी मीडिया की रिपोर्टों में अधिकारियों के हवाले से लिखा जा रहा है कि अगर अगले कुछ हफ़्तों में प्रॉपर्टी की कीमतें कम नहीं होती हैं तो इसे रोकने के लिए नए सिरे से कदम उठाने होंगे.

संबंधित समाचार