भारत, जापान के शेयर बाज़ारों में गिरावट

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जापान की त्रासदी ने दुनियाभर के बाज़ारों को प्रभावित किया है

भारत के शेयर बाज़ार मंगलवार को तेज गिरावट के साथ खुले और शुरुआत कारोबार में सेंसेक्स में लगभग 400 अंकों की गिरावट देखी गई.

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों वाला इंडेक्स बाद में 385 अंक गिरकर 18,055 अंक पर कारोबार कर रहा था.

दूसरी ओर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों वाला सूचकांक निफ़्टी 111 अंक गिरकर 5,420 अंक पर खुला.

शुरुआती कारोबार में शेयर बाज़ार में सभी सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई.

दूसरी ओर जापान के शेयर बाज़ारों में मंगलवार को शुरुआती कारोबार में लगातार दूसरे दिन भारी गिरावट दर्ज की गई.

मंगलवार को शुरुआती कारोबार में प्रमुख सूचकांक निक्की में 606 अंक की गिरावट दर्ज की गई.

जापान में पिछले सप्ताह आए भूकंप और सुनामी से भारी तबाही हुई है और वहाँ सरकार क्षतिग्रस्त परमाणु संयंत्रों से संभावित परमाणु हादसे को रोकने के लिए संघर्ष कर रही है.

सुनामी के बाद जापान में कई कंपनियों को अपने संयंत्रों को रोक देना पड़ा है. इनमें सोनी, टॉयोटा, निसान और होंडा शामिल हैं.

जानकारों के मुताबिक ये कहना जल्‍दबाज़ी होगी कि क़ुदरत के इस क़हर का जापान की अर्थव्यवस्था पर कितना गहरा असर पर क्‍या असर होगा.

लेकिन इतनी बड़ी त्रासदी ने जापान सहित पूरी दुनिया की अर्थव्‍यवस्‍था को हिला दिया है.

भूकंप के बाद एशियाई और यूरोपीय शेयर बाज़ारों में गिरावट देखने को मिली है.

लेकिन आर्थिक विशेषज्ञों का कहना है कि आपदा ऐसे समय आई है जबकि जापानी अर्थव्यवस्था को अपेक्षाकृत कम नुक़सान हुआ है क्योंकि पिछले साल के अंत में ये ख़ुद ही बहुत कमज़ोर थी.

जानकारों का ये भी कहना है कि दूसरे देशों की तुलना में जापान ने इस तरह की आपदा से निपटने की तैयारी ज़्यादा बेहतर तरीक़े से कर रखी है.

संबंधित समाचार