बंगलौर मेट्रो में एडीबी का पैसा

मेट्रो सेवा
Image caption बंगलौर मेट्रो सेवा का काम धीमी गति से चल रहा है

एशिया विकास बैंक ने दिल्ली की तर्ज़ पर बंगलौर में बन रही मेट्रो सेवा के लिए 25 करोड़ डॉलर का क़र्ज़ देने का फैसला किया है.

बंगलौर में लोग ट्रैफिक जाम और बढ़ते प्रदूषण से परेशान हैं और मेट्रो सेवा उनके लिए एक बड़ी राहत का विषय होगी. इस पैसे का इस्तेमाल पटरियां बिछाने, स्टेशन बनाने और ट्रेनें चलाने के लिए किया जाएगा. ढाई अरब से ज़्यादा की इस परियोजना में 42.3 किलोमीटर की रेल पटरियां डालने की योजना है और इसके वर्ष 2013 तक पूरा हो जाने का अनुमान है. बंगलौर मेट्रो की परियोजना को बंगलौर मेट्रो कॉर्पोरेशन बना रहा है. इस कॉर्पोरेशन में भारत सरकार और कर्नाटक राज्य सरकार दोनों की भागीदारी है. बंगलौर भारत के सबसे तेज़ी से बढ़ते शहरों में से एक है और इसकी आबादी अब साठ लाख के पार हो गई है.

भारत की ये अपनी तरह की पहली परियोजना है जहां सरकारी पूंजी के साथ साथ बाज़ार से क़र्ज़ भी लिया जा रहा है. केवल इसी कारण से इस परियोजना में बाज़ार और विशेषज्ञों की रूचि है कि ये प्रयोग सफल होता है या नहीं.

संबंधित समाचार