शेयर बाज़ार पर दबाव जारी

भारतीय शेयर ब्रोकर इमेज कॉपीरइट AFP Getty
Image caption भारतीय शेयर बाज़ार छठे दिन में भारी दबाव में हैं.

अमरीका और यूरोप में कर्ज़े से संबंधित चिंताओं के कारण मंगलवार सुबह भारतीय शेयर बाज़ार काफ़ी दबाव में था लेकिन दोपहर तक बाज़ार में सुधार आना शुरू हुआ लेकिन बाज़ार बंद होते-होते स्थिति लगभग सुबह जैसी ही हो गई.

मंगलवार सुबह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक यानि सेंसेक्स मंगलवार को खुलने से कुछ ही देर बाद 558 अंक नीचे लुढ़क गया.

लेकिन दोपहर को बाज़ार में 400 अंको का सुधार देखा गया. ये सुधार काफ़ी देर तक बना नहीं रह सका. मंगलवार को ट्रेडिंग बंद होते वक़्त बीएसई का सेंसेक्स 132 अंकों के नुकसान के साथ 16,858 पर बंद हुआ.

उधर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का पचास शेयरों वाला निफ़्टी मंगलवार सुबह जून 2010 के बाद पहली बार पांच हज़ार से नीचे गिरा है.

निफ़्टी मंगलवार को खुलने के कुछ पल बाद ही 172.05 नीचे लुढ़क गया था लेकिन दोपहर में इसमें सुधार नज़र आया.

लेकिन बाज़ार बंद होते वक़्त निफ़्टी 48 अंक नीचे बंद हुआ.

कहा जा रहा है कि मंगलवार दोपहर को आए सुधार के पीछे क्रेडिट रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड ऐंड पुअर का वो बयान है जिसमें ये कहा गया है कि अमरीका की रेटिंग कम होने का असर भारत पर नहीं पड़ेगा.

बीती रात अमरीकी शेयर बाज़ारों में आई भारी गिरावट और एशियाई बाज़ारों में लगातार कमज़ोरी के कारण खुलते ही भारी दबाव में आ गए.

अमरीका की क्रेडिट रेटिंग गिरने के बाद से दुनिया भर के शेयर बाज़ारों में गिरावट का दौर चल रहा है.

इससे पहले भी यूरोप के ऋण संकट के चलते क़रीब हफ़्ते भर से बाज़ार दबाव में थे.

संबंधित समाचार