2जी घोटाले में कोई भूमिका नहीं: रिलायंस

अनिल अंबानी इमेज कॉपीरइट spl arragnement
Image caption सीबीआई की ओर से मिले संकेतों के बाद माना जा रहा था कि अनिल अंबानी की मुसीबतें बढ़ सकती हैं

रिलायंस कंपनी ने शुक्रवार को दावा किया है कि सीबीआई के इस निष्कर्ष का काई सबूत नहीं है कि 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में उनकी कंपनी से किसी को लाभ मिला होगा.

अनिल अंबानी ने नेतृत्व वाली कंपनी अनिल धीरुभाई अंबानी ग्रुप (एडीजी) की ओर से जारी प्रवक्ता ने कहा है कि रिलायंस के ऐसे किसी अधिकारी ने सरकारी गवाह बनने की इच्छा नहीं ज़ाहिर की है, जिसके ख़िलाफ़ आरोप पत्र दाख़िल किया गया है.

उनका कहना है कि रिलायंस अब भी अपने इस बयान पर क़ायम है कि जनवरी, 2008 में लाइसेंस आवंटन में कंपनी या उसके किसी प्रमोटर को फ़ायदा नहीं पहुँचा.

रिलायंस के बयान में कहा गया है कि सीबीआई के वकील ने अदालत में कहा है कि 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में रिलायंस की कोई भूमिका नहीं थी.

कंपनी का कहना है कि सीबीआई ये नया मुद्दा इसलिए उछाल रही है क्योंकि वह नहीं चाहती कि रिलायंस के अधिकारियों को ज़मानत मिल जाए.

उल्लेखनीय है कि सीबीआई ने ये संकेत दिए थे कि 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में जेल में बंद रिलायंस के तीनों अधिकारी सरकारी गवाह बनने को तैयार है.

इस ख़बर के बाद एडीजी के शेयरों में भारी गिरावट आई थी.

संबंधित समाचार