भारत से टमाटर, अफ़ग़ानिस्तान से प्याज़

भारतीय टमाटर इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पाकिस्तान प्रतिदिन 1500 से 2000 टन तक के टमाटर भारत से आयात कर रहा है

पाकिस्तान के भारत और अफ़ग़ानिस्तान से संबंध इन दिनों बहुत अच्छे तो नहीं है लेकिन देश के अधिकतर रसोई घरों में टमाटर और प्याज़ इन दोनों देशों के इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

सिंध प्रांत में पिछले महीने भारी बारिशों से बाढ़ आ गई थी और प्रांत के दक्षिणी ज़िले बुरी तरह प्रभावित हुए थे और फ़सलों को भी भारी नुक़सान हुआ था.

भारी बारिशों और बाढ़ के बाद पाकिस्तान ने अपनी ज़रुरतें पूरी करने के लिए सब्ज़ियों का आयात शुरु कर दिया है और इस वक़्त भारत से टमाटर और अफ़ग़ानिस्तान से प्याज़ आयात किया जा रहा है.

सब्ज़ी के व्यापारियों का कहना है कि नवंबर से मार्च तक पंजाब और देश दूसरे शहरों के लिए सब्ज़ियाँ सिंध प्रांत से आती हैं और बाढ़ के कारण सब्ज़ियों की फ़सल 80 प्रतिशत नष्ट हो गई है.

लाहौर में सब्ज़ियों के एक व्यापारी ख़लील भट्टी ने बीबीसी को बताया कि इस समय प्रति दिन 1500 से 2000 टन तक टमाटर भारत से आयात किया जा रहा है और आने वाले दिनों में टमाटर की आयात में बढ़ोतरी होगी.

सब्ज़ियों के व्यापारियों के मुताबिक़ भारत से आयात हो रहा टमाटर पाकिस्तानी टमाटर जैसा ही है लेकिन उसकी क़ीमत ज़्यादा है.

'अफ़ग़ानिस्तान से प्याज़'

उन्होंने कहा कि बाढ़ के कारण प्याज़ की फ़सल को भी काफ़ी नुक़सान हुआ है और पाकिस्तान में इस समय प्याज़ की मांग 1500 से 2000 टन के करीब है.

व्यापारियों का कहना है कि प्याज़ की मांग को पूरा करने के लिए अफ़ग़ानिस्तान से प्रति दिन 500 टन के लगभग प्याज़ आयात किया जा रहा है और आने वाले दिनों में अफ़ग़ानिस्तान से आयात में बढ़ोतरी की जाएगी.

उन्होंने बताया कि अगर ज़रुरत पड़ी तो भारत से भी प्याज़ आयात की जाएगी लेकिन फ़िलहाल इसलिए नहीं आयात किया जा रही कि भारत का प्याज़ महंगा है.

व्यापारियों के मुताबिक़ हरी मिर्चों की फ़सल को भी नुक़सान हुआ है और देश का मिर्च प्रदेश कुनरी बुरी तरह प्रभावित हुआ है इसलिए भारत से मिर्च भी आयात की जा रही है.

संबंधित समाचार