'यूरोपीय कर्ज़ संकट का असर एशिया पर भी'

आईएमएफ़ अध्यक्ष क्रिस्टीन लेगार्ड इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क्रिस्टीन लेगार्ड ने चेतावनी दी है कि यूरोप की आर्थिक समस्याओं से एशिया भी अछूता नहीं रहेगा.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) की प्रमुख क्रिस्टीन लैगार्ड ने चेतावनी दी है कि यूरोप की आर्थिक समस्याओं के कारण दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को ‘एक दशक का नुक़सान’ हो सकता है.

उनका ये भी कहना है कि यूरोज़ोन की समस्याओं से एशिया भी अछूता नहीं रहेगा.

लैगार्ड ने ये बात चीन की अपनी दो दिन की यात्रा की शुरुआत में कही.

माना जा रहा है कि उनकी यात्रा में बातचीत का केंद्र यूरोप का कर्ज़ संकट है.

क्रिस्टीन लैगार्ड का कहना था कि ग्रीस को कर्ज़ संकट से उबारने के लिए दिया गया शुरुआती आर्थिक पैकेज सही दिशा में क़दम है लेकिन संकट अब भी टला नहीं है.

ख़तरा

आईएमएफ़ अध्यक्ष की चीन की यात्रा ऐसे समय में आई है, जब इटली पर भी ऋण संकट का ख़तरा मंडरा रहा है.

बीबीसी के बीजिंग संवाददाता, मार्टिन पेशंस, के मुताबिक़ यूरोपीय नेता उम्मीद कर रहे हैं कि चीन यूरोप के लिए आर्थिक पैकेज में मदद करेगा.

चीन दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक है और उसके पास विदेशी मुद्रा का अपार भंडार है.

लेकिन अब तक चीन और बाक़ी मुख्य विकासशील अर्थव्यवस्थाओं ने यूरोप में सीधे तौर पर निवेश करने में बहुत ज़्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाई है.

चीन ने संकेत दिए हैं कि वह आईएमएफ़ के ज़रिए योगदान करना चाहेगा.

संबंधित समाचार