एपल की स्थापना के काग़ज़ात करोड़ों में नीलाम

 बुधवार, 14 दिसंबर, 2011 को 13:41 IST तक के समाचार
एपल की स्थापना के कागज़

एक अप्रैल 1976 को हुए इस समझौते को 11 दिन बाद संशोधित किया गया था.

एपल के गठन के समय तैयार किए गए काग़ज़ात को एक नीलामी में क़रीब आठ करोड़ 53 लाख रुपए में बेचा गया है.

नीलामी करने वाली कंपनी सॉदबी का अनुमान था कि एपल के तीन टाइप किए हुए पार्टनरशीप समझौते एक से डेढ़ लाख डॉलर के बीच बिकेंगे.

इन कागज़ात पर एपल के तीन संस्थापकों - स्टीव जॉब्स, स्टीव वॉज़निएक और रोनाल्ड वेएन के हस्ताक्षर हैं. ये समझौता एक अप्रैल 1976 को हुआ था.

कंपनी के गठन के 11 दिन बाद रोनाल्ड वेएन इससे अलग हो गए थे. इसके समाझौते में फेरबदल किया गया था. उस फेरबदल वाला काग़ज़ भी नीलाम हुआ है.

इन दस्तावेज़ों को सिसनेरोज़ कॉरपोरेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एडुआर्डो सिसनेरोज़ ने ख़रीदा था.

उनकी कंपनी दूरसंचार से लेकर टीवी प्रॉडक्शन जैसे व्यवसायों से जुड़ी है.

तीसरा आदमी

स्टीव वोज़निएक और स्टीव जॉब्स

स्टीव वोज़निएक और स्टीव जॉब्स एक पुरानी तस्वीर में

नीलामी करने वाली कंपनी सोदबी ने कहा है कि इन काग़ज़ों पर पांच अन्य लोगों ने भी बोली लगाई.

इन काग़ज़ों को पेनकॉम सिस्टम्स के संस्थापक वेड सादी ने बेचा है. उन्होंने ये काग़ज़ साल 1994 में रोनाल्ड वेएन ने कई हज़ार डॉलर में ख़रीदे थे.

इन काग़ज़ों से पता चलता है कि जब एपल के गठन के 11 दिन बाद रोनाल्ड वेएन ने कंपनी छोड़ी तो उन्हें उनके 10 प्रतिशत हिस्से के बदले 800 डॉलर दिए गए. उसके बाद उन्हें 1500 डॉलर और दिए गए.

रोनाल्ड वेएन ने एपल के गठन में अहम भूमिका निभाई थी. उन्होंने स्टीव वॉज़निएक को अपनी नौकरी छोड़कर एपल से जुड़ने के लिए तैयार करने में स्टीव जॉब्स की सहायता की थी.

उन्हें 10 प्रतिशत हिस्सेदारी इसलिए दी गई ताकि जॉब्स और वोज़निएक के बीच मतभेद होने की स्थिति में वो अपना मत व्यक्त कर मसलों को सुलझा सकें.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.