आर्थिक विकास दर पिछले करीब तीन साल में सबसे कम

निर्माण क्षेत्र इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पिछली तिमाही में निर्माण क्षेत्र का विकास दर 2.7 फीसदी रहा था.

भारत की आर्थिक विकास दर में पिछले करीब तीन साल में सबसे ज्यादा गिरावट आई है. विकास दर में आई गिरावट के लिए निर्माण क्षेत्र में आई मंदी को जिम्मेदार माना जा रहा है.

पिछले साल के मुकाबले, इस वित्तीय वर्ष में अक्तूबर से दिसंबर की तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद 6.1 फीसदी की रफ्तार से आगे बढ़ी.

बीती तिमाही में निर्माण क्षेत्र के विकास दर में 0.4 फीसदी की गिरावट आई, जबकि पिछली तिमाही में ये दर 2.7 फीसदी थी.

वरिष्ठ आर्थिक पत्रकार एमके वेणु ने बीबीसी को बताया कि खनन उद्योग के लिए सरकारी नीतियों में खामियों की वजह से इसके विकास को नुकसान पहुँचा है.

उन्होंने कहा, “सरकार के निर्णय लेने में सुस्ती के कारण निजी निवेश में भी गिरावट आई है.”

महंगाई रोकने के लिए ब्याज दरों में की गई बेतहाशा वृद्धि से भी देश के विकास को नुकसान पहुंचा है.

आर्थिक विशेषज्ञ राधिका राव ने कहा, “जीडीपी दर अनुमान से थोड़ा कम दिखा है, लेकिन फिर भी ये अप्रत्याशित नहीं है.”

भारतीय उद्योगपति आरबीआई की मौद्रिक नीति पर कर्ज महंगा करने, नए निवेश को बढ़ावा नहीं देने का आरोप लगाते रहे हैं.

संबंधित समाचार