एशिया की सबसे ताक़तवर कारोबारी महिला में एकता कपूर

फ़िल्म और धारावाहिक निर्माता एकता कपूर
Image caption फ़ोर्ब्स एशिया की एशिया की 50 सबसे ताक़तवर कारोबारी महिलाओं की सूची में एकता कपूर सबसे छोटी हैं.

जानी-मानी भारतीय फ़िल्म और धारावाहिक निर्माता, एकता कपूर, एशिया की सबसे ताक़तवर कारोबारी महिलाओं की सूची में शामिल हो गई हैं.

बिज़नेस पत्रिका फ़ोर्ब्स की एशिया की 50 सबसे ताक़तवर बिज़नेसविमेन यानी कारोबारी महिलाओं में बालाजी टेलिफ़िल्मस की सहनिदेशक 36-वर्षीय एकता सबसे कम उम्र की महिला हैं.

भारत में ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज़ की विनिता बाली, एचटी मीडिया की शोभना भारतीय, आईसीआईसीआई की चंदा कोचर, बायोकॉन कंपनी की किरण मज़ुमदार शॉ, एज़ेडबी एंड पार्टनर्स की ज़िया मोदी, एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा और ट्रैक्टर्स एंड फ़ार्म इक्विपमेंट की मल्लिका श्रीनिवासन इस सूची का हिस्सा हैं.

एकता कपूर द्वारा निर्मित फ़िल्म 'द डर्टी पिक्चर' है जो पिछले साल न सिर्फ़ बॉक्सऑफ़िस पर बेहद सफल रही बल्कि फ़िल्म की हीरोईन विद्या बालन को इसके लिए अब तक कई अवॉर्ड भी मिल चुके हैं.

इसके अलावा एकता की कंपनी ने 'रागिनी एमएमएस', 'वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई' जैसी सफल फ़िल्में और 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' और 'कहानी घर घर की' जैसे लोकप्रिय धारावाहिक भी बनाए हैं.

'कारोबार का चेहरा बदला'

कंपनी का कहना था कि इन महिलाओं को 'मुनाफ़े कमाने वाली कंपनियों के बेहतरीन प्रबंधन' के लिए चुना गया है.

ये पहला मौक़ा है जब फ़ोर्ब्स ने एशिया की शीर्ष 50 कारोबारी महिलाओं की सूची जारी की है.

इस सूची में सम्मानित की गई महिलाओं में सबसे बड़ी उम्र की 77-वर्षीय जापानी महिला हैं.

ऑस्ट्रेलिया की सबसे अमीर व्यक्ति और महिला खनन कारोबारी जीना राइनहार्ट के साथ ही वियतनाम की सबसे बड़ी दूध कंपनी की अध्यक्ष शामिल हैं.

इसके बावजूद एशिया में अब भी कई महिलाओं को कार्यलायों और नौकरियों में भेदभाव और असमानता के मुद्दों का सामना करना पड़ता है.

फ़ोर्ब्स विमेन पत्रिका की अध्यक्ष और प्रकाशक मोइरा फ़ोर्ब्स ने एक वक्तव्य में कहा, "ये इस तरह की पहली सूची है और ये जश्न है उन गतिशील तरीकों का जिनसे एशिया की ये कारोबारी महिलाएं इस क्षेत्र में विकास को बढ़ावा दे रही हैं."

वक्तव्य में आगे कहा गया है, "ये महिलाएं विभिन्न उद्योग, देश और पीढ़ियों से हैं और इनके प्रभाव क्षेत्र भी अलग-अलग हैं, लेकिन इनमें से हर एक ने एशियाई कारोबार का चेहरा बदल दिया है और साथ ही भविष्य के नेताओं के लिए अवसर बनाए हैं."

फ़ोर्ब्स की सूची में चीन, ताइवान, हॉंगकॉंग और मकाउ की महिला कारोबारियों का बोलबाला है.

सूची में शामिल 50 महिलाओं में से 21 चीन, ताइवान, हॉन्गकॉन्ग और मकाउ से हैं. भारत की आठ और सिंगापुर की पांच महिलाएं इस सूची में हैं.

बाक़ी महिलाएं दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया, जापान, ऑस्ट्रेलिया, फ़िलिपींस, और वियतनाम से हैं.

संबंधित समाचार