पाकिस्तान को भारत देगा विदेशी निवेश की अनुमति

आनंद शर्मा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption आनंद शर्मा ने कहा है कि भारत-पाकिस्तान व्यापार परिषद भी जल्द खोले जाएंगे

वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने कहा है कि भारत अपने घरेलु बाजार में पाकिस्तान को विदेशी निवेश करने की इजाजत देगा. इससे पड़ोसी देश के निवेशको को भारतीय बाजार में निवेश करने का मौका मिलेगा.

आनंद शर्मा ने कहा कि भारत पाकिस्तान को विदेशी निवेश के लिए सैद्वांतिक अनुमति देने पर राजी है, इसके लिए जरूरी प्रक्रिया को पूरा किया जा रहा है और इस बारे में और भी जानकारियां जल्द सार्वजनिक की जाएगी.

इसके अलावा भारत और पाकिस्तान के बीच बैंकों की शाखाएं भी खोले जाने को लेकर चर्चा की जा रही है. आनंद शर्मा ने बताया कि रिजर्व बैंक और स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान बैंकों की शाखाएं खोले जाने पर सहमत है.

वाणिज्य मंत्री ने ये भी कहा है कि भारत-पाकिस्तान व्यापार परिषद भी जल्द खोले जाएंगे जिसकी अध्यक्षता दोनों देश मिलकर करेंगे.

इस बीच भारत और पाकिस्तान के बीच व्यापार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अटारी-वाघा सीमा पर शुक्रवार को इंटिग्रेटेड चेक पोस्ट भी खोला गया.

एकीकृत चेक पोस्ट का उद्घाटन करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, "भारत और पाकिस्तान के बीच बेहतर व्यापारिक संबंध बनाने के लिए देश में 13 चेक पोस्ट बनाए जाएंगे, जिसमें से ये पहला है."

चिदंबरम ने भारत और पाकिस्तान के व्यापारियों को एक दूसरे के देश में आजादी से आने-जाने की अनुमति देने पर भी जोर दिया और कहा कि नई वीजा नीति पर जल्द हस्ताक्षर किए जाएंगे.

आवाजाही में आसानी

एकीकृत चेक पोस्ट में यात्रियों और सामान के लिए समर्पित अलग-अलग टर्मिनल बनाए गए हैं जिससे कागजी कार्यवाहियां फुर्ति से हो और आवाजाही में कम समय लगे.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पाकिस्तान की तरफ वाले वाघा सीमा पर भी एकिकृत चेक पोस्ट है.

फिलहाल भारत और पाकिस्तान के बीच सामान और यात्रियों की आवाजाही के लिए एक ही रास्ता है जिस वजह से अकसर जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है.

व्यापारियों के मुताबिक भारत-पाकिस्तान सीमा से गुजरने वाले ट्रकों के कई दिनों तक फंसे रह जाने के कारण उनसे भेजे जा रहे सामान भी खराब होते हैं.

अटारी-वाघा चेक पोस्ट पर स्थित ये एकीकृत चेक पोस्ट यानि आईसीपी 130 एकड़ में फैला है और इसके निर्माण में 150 करोड़ रूपए का खर्च आया.

पाकिस्तान की तरफ वाले वाघा सीमा पर भी ऐसा ही एकिकृत चेक पोस्ट है.

भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा आधिकारिक व्यापार करीब 2.7 अरब डॉलर है.

उम्मीद जताई जा रही है कि इस चेक पोस्ट को प्रयोग के लिए खोले जाने से भारत और पाकिस्तान के बीच व्यापार में पांच फीसदी की बढ़ोत्तरी होगी.

संबंधित समाचार