आरबीआई ने घटाई ब्याज दरें, सस्ते हो सकते हैं होम लोन

रिज़र्व बैंक की इमारत इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption रिज़र्व बैंक का अनुमान है कि आने वित्त वर्ष में जीडीपी की विकास दर 7.3 प्रतिशत रहेगी

भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपनी वार्षिक मौद्रिक नीति में आरबीआई द्वारा वाणिज्यिक बैंकों को दिए जाने वाले कर्ज़े की ब्याज़ दर आधा प्रतिशत कम करते हुए आठ प्रतिशत कर दी है.

ये बीते तीन वर्षों में पहली बार है कि आरबीआई ने रेपो रेट की ब्याज़ दरों में कटौती की है. जानकारों का कहना है कि ये धीमी पड़ती भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ़्तार बढ़ाने की कोशिश है

ब्याज दर में कटौती का एक अर्थ ये भी है कि अब बैंकों को सस्ती दरों पर ऋण मिल सकेगा और उम्मीद की जानी चाहिए कि बैंक इसका लाभ अपने कर्ज़दारों को भी देंगे.

अगर ऐसा होता है तो इसका लाभ कर्ज़े पर घर और गाड़ी ख़रीदनें वालों को होने की संभावना है.

इसके अलावा रिवर्स रेपो रेट यानि जिस दर पर बैंक अपना धन रिज़र्व बैंक के पास रखते हैं, में भी कटौती की गई है. तुरंत प्रभाव से रिवर्स रेपो रेट में एक प्रतिशत की कटौती करते हुए इसे सात प्रतिशत कर दिया गया है.

मंगलवार को घोषित हुई वर्ष 2012-13 की मौद्रिक नीति के बाद फिलहाल किसी भी बैंक ने ऋण की ब्याज़ दर कम करने की घोषणा नहीं की है. लेकिन आमतौर पर बैंक आरबीआई के फ़ैसले के कर्ज़े की दरों में कटौती करते रहे हैं.

दरों में कमी करने की वजह

भारत के केंद्रीय बैंक के प्रमुख डी सु्ब्बाराव ने एक बयान में कहा है कि ब्याज दरों में कमी के पीछे दो कारण हैं.

उन्होंने कहा, “ पहले तो पिछले वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही में विकास दर काफ़ी कम होते हुए 6.1 प्रतिशत रही है हांलाकि चौथी तिमाही में इसमें सुधार की संभावना है. मौजूदा आंकलन के आधार पर अर्थव्यवस्था साफ़तौर पर संकट के बाद के दौर में उम्मीद से कम रफ़्तार से बढ़ रही है.”

डी सुब्बाराव ने ब्याज़ दर कम करने की दूसरी वजह कुछ इस तरह बताई, “नीति निर्धारण में दूसरा कारण मुद्रास्फीती की दर में गिरावट रहा है. दो वर्ष तक थोक मूल्य के आधार पर मापी जाने वाली मंहगाई दर नौ प्रतिशत रहने के बाद मार्च 2012 में ये दर सात प्रतिशत के नीचे हो गई है. ”

आरबीआई ने अनुमान लगाया है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 में भारत के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी में 7.3 प्रतिशत वृद्धि हो सकती है.

लेकिन रिज़र्व बैंक ने ये भी कहा है कि उनकी विकास दर और मंहगाई दर को कई वैश्विक परिस्थितियां प्रभावित कर सकती हैं.

दरों में कटौती का स्वागत

डी सुब्बाराव ने कहा, “सबसे प्रमुख कच्चे तेल के दाम हैं. इसमें तेल उत्पादक देशों में राजनीतिक तनाव चिंता का विषय हैं. इसके अलावा वित्तीय घाटे में गिरावट भी मंहगाई दर को प्रभावित कर सकती है.”

केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि रिज़र्व बैंक की इस घोषणा के बाद विकास दर की स्थिति सुधर सकती है.

वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने पत्रकारों को बताया, “ पिछले कुछ महीनों से कमज़ोर हुई विकास दर में अब सुधार आना चाहिए. मौद्रिक नीति की घोषणा से निवेश के बढ़ने में सहायता मिलेगी और इससे व्यवसाय के लिए माहौल मज़बूत होगा. आने वाले कुछ हफ़्तों में हम अतिरिक्त कदम उठाएंगे जिससे विकास दर बढ़ने की दिशा को मज़बूती मिलेगी.”

वित्त मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार मंहगाई की दर को काबू में रखने की हर संभव कोशिश करेगी.

रिज़र्व बैंक की घोषणा का शेयर बाज़ार ने स्वागत किया है. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंस का तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 207 अंको की वृद्धि के साथ 17,358 पर बंद हुआ.

उधर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का पचास शेयरों वाला निफ़्टी 63 अंकों की बढ़त के साथ 5290 पर बंद हुआ.

संबंधित समाचार