गैस के लिए बांग्लादेश का रूसी कंपनी से करार

गैस उत्पादन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इस परियोजना से बांग्लादेश के गैस उत्पादन में प्रतिदिन 30 करोड़ घन फीट के इजाफे की उम्मीद की जा रही है

बांग्लादेश की सरकारी कंपनी पेट्रोबांग्ला ने रूस की कंपनी गैसप्रॉम के साथ एक करार किया है जिसके तहत तटीय इलाकों में 10 कुएं खोदे जाएंगे.

इस परियोजना से बांग्लादेश के गैस उत्पादन में प्रतिदिन 30 करोड़ घन फीट का इजाफा हो सकता है.

19.3 करोड़ डॉलर के इस समझौते पर बांग्लादेश की राजधानी ढाका में हस्ताक्षर किए गए. गैसप्रॉम के पास इस परियोजना को पूरा करने के लिए 20 महीने का समय होगा.

रूस की विशाल सरकारी ऊर्जा कंपनी गैसप्रॉम इस परियोजना में कॉन्ट्रैक्टर के तौर पर काम करेगी और हर कुए की खुदाई पूरी होने पर पेट्रोबांग्ला की सहायक कंपनियां उसे भुगतान करेंगी.

समझौते के तहत किसी धमाके या अन्य कारणों से प्राकृतिक गैस या गैस भंडारों को नुकसान होने की स्थिति में गैसप्रॉम पेट्रोबांग्ला को मुआवजा देगी.

नए भंडारों की तलाश

गैसप्रॉम ऐसी पहली विदेशी कंपनी है जो उत्पादन साझीदारी कॉन्ट्रैक्ट (पीएससी) के बिना पेट्रोबांग्ला के लिए कुएं खोदेगी.

बिना किसी टेंडर के पेट्रोबांग्ला ने गैसप्रॉम से यह करार किया है. इससे पहले टेंडर की पूरी प्रक्रिया के बाद इस काम के लिए पोलैंड की कंपनी पोजुकिवानिया नास्ती गाजु क्राकाओ को चुना गया लेकिन उसने इस परियोजना हाथ खींच लिया. इसलिए अब रूसी कंपनी इस काम को अंजाम देगी.

अमरीकी कंपनी कोनोकोफिलिप्स इस वक्त बांग्लादेश के साथ मिल कर बंगाल की खाड़ी के गहरे पानी में गैस तलाश रही है.

एक अनुमान के मुताबिक बांग्लादेश के मौजूदा गैस भंडार तीन साल में खत्म हो जाएंगे. बांग्लादेश में 15 ट्रिलियन घन फीट के भंडार मौजूद हैं.

संबंधित समाचार