आउटसोर्सिंग से अमरीका को फायदा: नैस्कॉम

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आउटसोर्सिग के मुददे पर नई बहस शुरू हो गई है

अमरीका में इस साल होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में आउटसोर्सिंग को मुद्दा बनाए जाने पर भारतीय की सूचना प्रोद्योगिकी और बीपीओ कंपनियों की प्रमुख संस्था नैस्कॉम ने कहा कि आउटसोर्सिंग से अमरीका को ही फायदा होता है.

नैस्कॉम के अध्यक्ष सोम मित्तल ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि आउटसोर्सिंग की वजह से अमरीकी कंपनियां ज्यादा प्रतिस्पर्धात्मक बनती हैं और भारतीय उद्योग ने अमरीका में पिछले पांच सालों में लाखों नौकरियां दी हैं और अरबों डॉलर का टैक्स भी भरा है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी चुनावी मुहिम के एक नए विज्ञापन में रिपब्लिकन पार्टी के अपने प्रतिद्वंदी मिट रोमनी पर मैसाचुसैट्स के गवर्नर की हैसियत से राज्य की नौकरियां भारत स्थानांतरित करने का आरोप लगाया है.

आउटसोर्सिग या नौकरियां विदेश भेजने का मामला अमरीका में बहुत संवेदनशील माना जाता है. और ऐसे समय में जब बेरोजगारी अपने चरम पर है, इस मुददे पर नई बहस शुरू हो गई है.

लेकिन भारतीय उद्योग का कहना है कि ये सिर्फ चुनावी हथकंडा ही है.

नई नौकरियां

सोम मित्तल ने कहा, "हमने पिछले महीने एक रिपोर्ट जारी की थी जिसके हिसाब से अमरीका में हम करीब 2,80,000 जॉब सपोर्ट करते हैं. इनमें 1,10,000 नौकरियां डायरेक्ट हैं जो हाइली स्किल्ड जॉब है. हम न सिर्फ नई नौकरियों के अवसर दे रहे हैं बल्कि हमारी अपनी इंडस्ट्री ने अमरीका को पिछले पांच साल में 15 अरब डॉलर का टैक्स और सोशल सिक्योरिटी में योगदान दिया है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ओबामा ने विदेश में नौकरियां भेजने को चुनावी मुद्दा बना दिया है

नैस्कॉम अध्यक्ष के अनुसार अमरीका को आउटसोर्सिंग से बहुत फायदा होता है.

उनका कहना है कि ज्यादातर बड़ी अमरीकी कंपनियों के आय का 50-70 प्रतिशत भाग अमरीका के बाहर से आता है. ऐसे में देश के बाहर सफल होने के लिए ये उनकी जरूरत है कि काम न सिर्फ सस्ते दाम में हो बल्कि तेज हो और बेहतर भी.

फायदा

इस लिहाज से अमरीका का कोई भी काम जब भारत से होता है तो वो अमरीका की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाता है न कि गिराता है.

उन्होंने कहा, "आउटसोर्सिंग 'जीरो-सम गेम' नहीं है. इसका मतलब ये नहीं है कि बाहर काम दिया तो यहां नौकरी चली गई. बल्कि अमरीका में जो व्यवसायिक गतिविधियां पैदा हो रही हैं ये इसलिए भी है कि कुछ काम यहां भारत में हो रहा है, कुछ काम वहां अमरीका में हो रहा है. कुछ काम बाहर हो गया उसकी वजह से दरअसल अमरीका में नौकरियां मिल रही हैं. अमरीका को भी हाइली स्किल्ड लोगों की जरूरत है और आउटसोर्सिंग से ये संभव है"

नैस्कॉम अध्यक्ष मित्तल के मुताबिक ओबामा ने जो मुद्दा उठाया है वो चुनावी प्रक्रिया के दौरान हो सकता है लेकिन जैसे जैसे चुनाव नजदीक आएगा उनके अपने घरेलू मुद्दे ज्यादा सामने आएंगे.

संबंधित समाचार