याहू प्रमुख ने दी झूठी डिग्री

याहू इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption याहू ने इस पूरे मामले पर अपनी गलती मानी है और इसकी समीक्षा का वादा किया है

इंटरनेट सर्च इंजन याहू के प्रमुख ने अपने बायोडेटा में कंप्यूटर साइंस की गलत डिग्री शामिल करने के लिए माफी माँगी है.

मगर उनके इस्तीफे की माँग कर रही याहू की एक शेयरधारक कंपनी ने उनकी नियुक्ति से जुड़े दस्तावेज मांगे हैं.

ये निवेश कंपनी - थर्ड पॉइंट - थॉम्पसन की बर्खास्तगी की मांग कर रही है.

याहू ने ऑनलाइन पर पेमेंट करवानेवाली कंपनी पे पैल के अध्यक्ष थॉम्पसन को जनवरी में अपना प्रमुख बनाया था.

पर थर्ड पॉइंट का कहना है कि थॉम्पसन के पास कंप्यूटर साइंस की डिग्री नहीं है जैसा कि दावा किया गया था.

कंपनी ने याहू को थॉम्पसन को बर्खास्त करने के लिए सोमवार तक की समयसीमा दी थी.

समयसीमा गुजरने के बाद थर्ड पॉइंट ने थॉम्पसन की नियुक्ति से जुड़े दस्तावेज और रिकॉर्ड्स मांगे हैं.

माफी

याहू के मुख्य कार्यकारी थॉम्पसन ने एक मेमो जारी कर अपने कर्मचारियों से माफी मांगी है.

मगर उन्होंने अपने पत्र में ये नहीं बताया है कि उनके बायोडेटा में ऐसी डिग्री को क्यों शामिल किया गया जिसकी उन्होंने पढ़ाई ही नहीं की.

उन्होंने लिखा है,“हम लोग कंपनी को आगे बढ़ाने के लिए बहुत मेहनत कर रहे हैं, और इसका उल्टा असर हुआ है. इसके लिए मैं पूरी जिम्मेदारी लेता हूं, और मैं आपसे माफी मांगना चाहता हूं.”

थॉम्पसन ने मैसाच्युसेट्स के स्टोनहिल कॉलेज से स्नातक किया है और याहू के मुताबिक उनके पास अकाउंटिंग और कंप्यूटर साइंस में डिग्री है.

मगर वे जब उस कॉलेज में पढ़ रहे थे तब उस समय वहाँ कंप्टूयर साइंस की पढ़ाई ही नहीं होती थी.

याहू ने अपनी गलती मानी है और कहा है कि कंपनी पूरे मामले की समीक्षा करेगी.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक इस मुद्दे पर विवाद बढ़ता देख सोमवार को याहू के बोर्ड की बैठक हुई.

थर्ड पॉइंट के प्रमुख डैनियल लिओब पहले भी याहू के बोर्ड में बड़े बदलाव करवा चुके हैं.

खास कर उन्हें याहू के सह-संस्थापक जेरी यांग और पूर्व अध्यक्ष रॉय बोस्टोक के इस्तीफों का श्रेय दिया जाता है.

संबंधित समाचार