सुप्रीम कोर्ट: पायलटों के साथ मतभेद सुलझाए एयर इंडिया

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption एयर इंडिया के पायलट चार दिन से हड़ताल पर हैं

सुप्रीम कोर्ट ने इंडियन पायलट गिल्ड के विरुद्ध सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया की ओर से दायर अदालत की अवमानना की याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी.

न्यायाधीश टीएस ठाकुर की बेंच ने कहा है कि अगर पायलटों की हड़ताल अवैध है तो एयर इंडिया उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकता है.

इसके बाद समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार एयर इंडिया ने 25 हड़ताली पायलटों को बर्ख़ास्त कर दिया है और पायलट गिल्ड के 11 अधिकारियों का लाइसेंस रद्द करने के लिए डीजीसीए यानी नागरिक उड्डयन मामलों के महानिदेशक को लिखा है.

इससे पहले न्यायाधीश का कहना था कि पायलटों ने ऐसा कुछ नहीं किया है जिसे अदालत की अवमानना माना जाए और एयरलाइन को पायलटों से बातचीत कर मतभेद दूर करने की सलाह दी.

केंद्रीय उड्डयन मंत्री अजीत सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा है कि एयर इंडिया को बचाने की कोशिश की जा रही है लेकिन इसके लिए उसके कर्मचारियों का सहयोग भी जरुरी है.

इस बीच एयर इंडिया के बाद किंगफिशर एयरलाइंस के कई पायलटों के छुट्टी पर चले जाने से यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई थीं मगर हड़ताली पायलटों में से कुछ ने हड़ताल समाप्त करके काम पर लौटने का फैसला किया है.

किंगफिशर को भी पायलटों के छुट्टी पर जाने से कई उड़ानें रद्द करनी पड़ी थीं.

एयर इंडिया के पायलटों की हड़ताल भी चौथे दिन में प्रवेश कर गई है. इससे पहले मुश्किलों से घिरी एयर इंडिया ने अमरीका, कनाडा और यूरोप की उड़ानों के लिए 15 मई तक टिकट बुकिंग बंद करने की घोषणा कर दी है.

हड़ताल जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption किंगफिशर एयरलाइंस एक साल से वित्तीय संकंट में है.

किंगफिशर एयरलांइस के 80 पायलटों ने एक साथ बीमारी की वजह से 'सिक लीव' ले ली, जिसकी वजह से लगभग 15 उड़ानें रद्द करनी पड़ी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को मुंबई के पायलट भी छुट्टी पर जा सकते हैं, जिससे एयरलाइंस की समस्या और भी गंभीर हो सकती है.

किंगफिशर की जिन उडानों को रद्द किया गया, उनमें दिल्ली से शिमला, धर्मशाला, चंडीगढ़ और जयपुर की उड़ानें शामिल हैं.

एयर इंडिया की कई उड़ानें रद्द होने के बाद अब किंगफिशर एयरलाइंस की उड़ानें भी रद्द होने से भारत में हवाई यात्रा का संकट और गहरा हो गया है.

एयर इंडिया ने 10 पायलटों को बर्खास्त कर दिया, जिससे बर्खास्त किए गए पायलटों की संख्या 46 हो गई है.

इंडियन पायलट गिल्ड से जुडे़ 200 से ज्यादा पायलटों के काम पर लौटने से इनकार करने के बाद एयर इंडिया ने कहा है कि वह न्यूयार्क, न्यूजर्सी, शिकागो, टोरंटो, लंदन, पेरिस और फ्रैंकफर्ट के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द कर रही है.

साथ ही कुछ अन्य देशों के लिए उड़ानें भी स्थगित की जा सकती हैं.

पायलटों के आंदोलन के कारण इस सरकारी विमानन कंपनी को 20 से ज्यादा उड़ानें रद्द करनी पड़ी है और इससे भारी तादाद में यात्रियों को परेशानी हो रही है.

वेतन नहीं

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से कहा, "कम से कम 17 उड़ानें रद्द हुई हैं. वेतन नहीं मिलने के विरोध में दिल्ली में कई पायलटों ने बीमारी की छु्ट्टी ली हालांकि उन्हें चेयरमैन से लिखित आश्वासन मिला था कि नौ मई तक वेतन मिलना शुरू हो जाएगा."

किंगफिशर एयरलाइंस ने जनवरी से पायलटों को वेतन नहीं दिया है.

इन दोनों विमानन कंपंनियों की उड़ाने रद्द होने से लोगों को हवाई यात्रा में काफी दिक्कतें हो रही है. मांग बढ़ने से हवाई टिकटों की कीमतें भी बढ़ गई हैं.

किंगफिशर एयलाइंस एक साल से वित्तीय संकटो से जूझ रहा है. दिसंबर की तिमाही में कंपनी ने 444 करोड़ रूपए का घाटा दिखाया था.

पिछले साल हर दिन लगभग 400 उडाने भरने वाला किंगफिशर अब एक दिन में केवल 110 उडाने संचालित करता है.

संबंधित समाचार