भारत के खिलाफ डब्लूटीओ पहुँचा अमरीका

अमरीकी अंडे इमेज कॉपीरइट PA
Image caption अमरीका ने इस मामले में डब्लूटीओ का रुख किया

अमरीका ने अपने कुछ उत्पादों के आयात पर भारत की ओर से लगाई गई रोक के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन यानी डब्लूटीओ का दरवाजा खटखटाया है.

अमरीका ने डब्लूटीओ से अपील की है कि वो इस मामले में एक आयोग का गठन करे. अमरीका का दावा है कि मुर्गी के अंडों और मांस के आयात पर भारत की ओर से लगाई गई रोक पक्षपातपूर्ण है.

अमरीका और भारत के बीच इस संबंध में हुई बातचीत नाकाम होने के बाद अमरीका ने डब्लूटीओ की ओर रुख किया है.

अमरीका के व्यापार प्रतिनिधि रॉन कर्क ने कहा, "ये जरूरी है कि अमरीकी किसानों की पहुँच भरोसेमंद बाजार तक हो और इससे भारत भी सहमत हो. अमरीका अपने कृषि उद्योग को सुरक्षा के मामले में उच्च स्तर पर रखता है. हमें भरोसा है कि डब्लूटीओ इस बात से सहमत होगा कि अमरीकी निर्यात पर भारतीय रोक न्यायसंगत नहीं है."

मकसद

दूसरी ओर भारत का कहना है कि उसका ये कदम एवियन इन्फ्यूएंजा को रोकने के मकसद से है.

लेकिन अमरीकी अधिकारियों का तर्क है कि ये कदम संबंधित विज्ञान और अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों के साथ-साथ उससे भी मेल नहीं खाता, जो भारत ने अपने घरेलू उद्योग के लिए मानदंड तय किए हैं.

अमरीका ने सात मार्च को भारत के साथ औपचारिक विचार-विमर्श के लिए अनुरोध किया था. 16 और 17 अप्रैल को दोनों देशों ने इस पर चर्चा भी की, लेकिन कोई हल नहीं निकल पाया.

अमरीकी व्यापार अधिकारियों का कहना है कि भारत इस पर जोर दे रहा है कि उसके पास उन देशों पर आयात पाबंदी लगाने का पूरा अधिकार है, जहाँ से एवियन इन्फ्लूएंजा के फैलने की रिपोर्ट आती है.

संबंधित समाचार