ग्रीस दोबारा चुनावों की ओर, यूरो सदस्यता खतरे में

 मंगलवार, 15 मई, 2012 को 20:53 IST तक के समाचार

ग्रीस की संसद में साईरिजा ब्लाक दूसरी बड़ा गठबंधन है

ग्रीस के चुनाव में सरकारी खर्च में कटौती के विरुद्ध वोट के बाद, नई सरकार बनाने की कोशिशें नाकाम हो गई हैं और ग्रीस दोबारा चुनावों की ओर बढ़ रहा है.

दोबारा चुनावों के बारे में बुधवार को औपचारिक घोषणा हो सकती है. जनमत सर्वेक्षण से संकेत मिले हैं कि सरकारी खर्च में कटौती का विरोध कर रहे दलों को चुनाव में फायदा हो सकता है.

दूसरी ओर इस बारे में चेतावनी दी गई है कि यदि ग्रीस 130 अरब यूरो के यूरोपीय संघ और अंतरराष्ट्रीय मुद्र कोष के पैकेज और साथ ही इससे संबंधित सरकारी खर्च में कटौती की शर्तों को खारिज करता है तो यूरोजोन में उसकी सदस्यता खतरे में पड़ सकती है.

बाजारों में मची खलबली

मंगलवार की चर्चा के बाद सोशलिस्ट पार्टी के इवैंजेलोस वेनिजिलोस ने कहा कि ग्रीस में अब दोबारा चुनावों की ओर बढ़ रहा है.

इससे पहले नौ दिन तक राजनीतिक अनिश्चितता और चर्चा के बाद मंगलवार को राष्ट्रपति विभिन्न दलों से मिले ताकि वे पार्टियों को राजनीतिक गतिरोध को खत्म करने के लिए विशेषज्ञों की आपातकालीन सरकार बनाने पर राजी कर सकें.

ये चर्चा इस संदर्भ में हो रही थी जब काफी हद तक ये स्पष्ट होने लगा है कि यदि दोबारा चुनाव होते हैं तो सरकारी खर्च में कटौती के विरोधी वामपंथियों को संसद में बढ़त मिल सकती है.

बीबीसी के मार्क लोवेन:

"ये ऐसा समय है जब सभी के लिए बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है. यदि ग्रीस यूरो छोड़ देता है तो विचारधारा के नजरिए से वित्तीय संघ का पूरा ढांचा की चरमरा जाएगा"

वामपंथी दलों ने किसी भी तरह के गठबंधन को सहयोग न देने के संकेत दिए थे.

उधर विश्व के शेयर बाजारों में खलबली मची हुई है. अमरीका और यूरोप के बाजारों में सोमवार को बिकवाली कौ दौर रहा जबकि एशियाई बाजारों में मंगलवार की सुबह गिरावट दर्ज हुई.

जब ग्रीस से ताजा खबर आई तो यूरो की कीमत में खासी गिरावट आई.

'यदि ग्रीस ने यूरो छोड़ा...'

उधर यूरोपीय नेताओं ने कहा है कि यदि ग्रीस ने मार्च का राहत पैकेज और उससे संबंधिक खर्च में कटौती की शर्तों को खारिज किया तो ग्रीस को आगे पैसा नहीं दिया जाएगा.

पर्यवेक्षकों के अनुसार इसका मतलब ग्रीस दिवालिया हो सकता है और निश्चित तौर पर यूरो से बाहर हो सकता है.

जर्मनी के वित्त मंत्री वॉल्फगैंग शोबल ने दोबारा राहत पैकेज में संशोधन से स्पष्ट इनकार किया.

एथिंस से बीबीसी के संवाददाता मार्क लोवेन का कहना है, "ये ऐसा समय है जब सभी के लिए बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है. यदि ग्रीस यूरो छोड़ देता है तो विचारधारा के नजरिए से वित्तीय संघ का पूरा ढांचा की चरमरा जाएगा."

यूरो के नीचे गिरने का मतलब है कि अन्य देश और संकट में फंस सकते हैं. संवाददाताओं का कहना है कि स्पेन में कर्ज लेने की कीमत खतरनाक स्तर पर है.

ग्रीस में वामपंथी साईरिजा ब्लाक - जो संसद में दूसरा बड़ा ब्लाक है - पहले ही यूरोपीय संघ और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के ग्रीस के लिए 130 अरब यूरो के कर्ज की शर्तों को नामंजूर कर चुका है. वे इस पर पुनर्विचार और दोबारा चर्चा चाहते हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.