बार्क्लेस के पूर्व प्रमुख से ब्याज दर मामले में पूछताछ

डायमंड इमेज कॉपीरइट AP
Image caption डायमंड ने बैंक का बचाव करते हुए कहा कि बार्क्लेस ने काफी जल्दी कार्रवाई की.

ब्रितानी बैंक बार्क्लेस के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी बॉब डायमंड ने ब्याज दरों में गड़बड़ी करने के लिए जिम्मेदार लोगों की निंदा की है.

डायमंड ने कहा कि उन्हें इस घोटाले की गहराई के बारे में इसी महीने पता चला जिसके बाद उपभोक्ताओं की चिठ्ठियों को पढ़कर वो खुद को “शारीरिक तौर पर बिमार” महसूस करने लगे.

उनका कहना है कि वो बार्क्लेस से प्यार करते है और उन्होंने सिर्फ इसकी प्रतिष्ठा बनाए रखने के लिए इस्तीफा दिया. डायमंड ने कहा, “मै शर्मिंदा, निराश और गुस्से में हूं.”

ट्रेजरी कमिटी के सांसद सदस्यों ने डायमंड के साथ तीन घंटों तक पूछताछ की.

डायमंड से पूछा गया कि ब्याज दर घोटाले के बारे में किन-किन लोगों को क्या-क्या जानकारी थी, साथ ही बैंक ऑफ इंग्लैंड और पूर्व सरकार की इसमें क्या भूमिका थी.

बैंक का बचाव

उन्होंने बैंक का बचाव करते हुए कहा कि बार्क्लेस ने काफी जल्दी कार्रवाई की.

डायमंड ने कहा, “हमें तीन साल पहले जैसे ही इस समस्या के बारे में पता चला...हमने कहा कि इसके तह तक पहुंचना होगा.”

उन्होंने कहा कि अमरीकी और ब्रितानी सरकार सहित फाइनेंसियल सर्विसेज अथॉरिटी ने भी बार्क्लेस की तरफ से किए गए सहयोग की सराहना की है.

डायमंड ने कहा कि उन्हे अनुमान थी कि इस मामले में कानूनी जांच होगी और इसी बीच बार्क्लेस के कई दोषी सुपरवाइजरों के खिलाफ कार्रवाई भी की गई है.

सुनवाई के बाद रूढ़ीवादी दल के सांसद डेविड रूफले ने कहा कि वो डायमंड के जवाबों से संतुष्ट नहीं है.

उन्होंने बीबीसी को बताया, “या तो डायमंड को सब पहले से पता था या फिर वो अयोग्य है.”

रूफले ने कहा कि वो ये जानकर अचंम्भे में है कि डायमंड को इस घोटाले के बारे में पिछले ही सप्ताह पता चला.

उपभोक्ताओ के साथ 'क्रूरता'

इमेज कॉपीरइट d
Image caption बार्क्लेस पर ब्याज दर में गड़बड़ी के आरोप पहले भी लग चुके हैं.

डेविड कैमरन ने कहा कि ये क्रूरता है कि बैंक के ब्याज दर में गड़बड़ी किए जाने के के कारण उपभोक्ताओं को ज्यादा ब्याज देना पड़ा.

लाइबर में हेराफेरी की शुरुआत साल 2008 में हुई जब बार्क्लेस मध्यपूर्व के देशों से निवेश जमा कर रहा था. ये आर्थिक संकट का वो समय था जब दूसरी कई बैंक सरकार से उधार ले रहें थे.

लाइबर यानी कि लंदन इंटरबैंक ऑफर्ड रेट वो दर है जिसके आधार पर सहयोगी बैंक एक दूसरे से कर्ज ले या दे सकते हैं. ब्रिटिश बैंकर्स असोसिएशन हर रोज इस दर का निर्धारण करती है.

लाइबर का प्रयोग करने वाले देशों में अमरीका, कनाडा, स्विट्जरलैंड और ब्रिटेन शामिल हैं.

साल 2008 से तीन साल पहले के भी एक मामले में बार्क्लेस की संलिप्तता की जांच चल रही है, जिसमें मुनाफा बढ़ाने के लिए लाइबर दर बढ़ाने की बात साने आई थी.

बार्क्लेस और अन्य वित्तीय संस्थाओं के खिलाफ अमरीका में भी कानूनी जांच चल रही है.

डायमंड के इस्तीफे से एक हफ्ते पहले ही बार्क्लेस पर लाइबर में धांधली करने के लिए 29 करोड़ पाउंड का जुर्माना लगाया गया था.

संबंधित समाचार