नोकिया ने आधे किए ल्युमिया 900 के दाम

नोकिया ल्युमिया इमेज कॉपीरइट nokia
Image caption नोकिया बाजार में अपनी खोई हुई हिस्सेदारी पाने को बेताब है.

नोकिया ने अमरीका में अपने सबसे अहम स्मार्टफोन ल्युमिया 900 के दाम घटा कर आधे कर दिए हैं.

अपने इस टचस्क्रीन फोन को नोकिया अमरीका में एटीएंडटी टेलीकॉम कंपनी के जरिए बेचा जाता है और इसी साल अप्रैल से इसकी बिक्री शुरू हुई.

ल्युमिया 900 के दाम 99 डॉलर से घटा कर 49.99 डॉलर कर दिए गए हैं. माना जा रहा है कि नोकिया कंपनी इस कदम के जरिए बाजार में उस हिस्सेदारी को वापस हासिल करना चाहती है जिस पर सैमसंग और एपल ने कब्जा कर लिया है.

वैसे ल्युमिया 900 से जुड़ी नोकिया की महत्वकांक्षाओं को सॉफ्टवेयर की एक खराबी का खमियाजा उठाना पड़ा जिसकी वजह से अमरीका में इन फोनों का डाटा कनेक्शन अकसर टूट जाता था.

इस फोन को लेकर लोगों का आकर्षण उस वक्त भी कम हुआ जब नोकिया ने माना कि इस फोन में माइक्रोसॉफ्ट विडों ऑपरेटिंग सिस्टम को नहीं चलाया जा सकेगा जो इस फोन के नए वर्जन में होगा.

'सामान्य रणनीति'

नोकिया के मुताबिक ये फोन कम कीमत पर उन्हीं ग्राहकों को मिलेगा जो दो साल के एक करार पर हस्ताक्षर करेंगे.

कंपनी के प्रवक्ता ने इस बात से इनकार किया है कि कीमत घटाने का कदम हताशा में उठाया गया है. उनके मुताबिक इसमें कोई अनोखी बात नहीं है. प्रवक्ता ने कहा कि कीमतें घटाना फोनों को लेकर उनकी ‘सामान्य रणनीति’ का हिस्सा है.

नोकिया ने ये नहीं बताया है कि क्या इस फोन दामों में कमी अमरीका के बाहर दूसरे बाजारों में भी की जाएगी.

नोकिया 1998 से 2011 तक दुनिया में सबसे ज्यादा मोबाइल फोन बेचने वाली कंपनी रही है, लेकिन इस साल सैमसंग ने उसे पहली बार पछाड़ दिया और वो दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन कंपनी बन गई.

इमेज कॉपीरइट a
Image caption पिछले साल तक नोकिया दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल कंपनी हुआ करती थी.

बाजार का विश्लेषण करने वाली कंपनी स्ट्रैटजी अनालिस्ट के ताजा आंकड़े कहते हैं कि 2012 की पहली तिमाही में सैमसंग ने किसी भी दूसरी कंपनी के मुकाबले ज्यादा मोबाइल फोन बेचे हैं और बाजार में उसकी हिस्सेदारी बढ़ कर 25 प्रतिशत हो गई है.

नोकिया 22.5 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ दूसरे स्थान पर है. 2001 से 2012 के बीच नोकिया के मोबाइल फोनों की बिक्री में 24 प्रतिशत की कमी आई है.

स्मार्टफोन के क्षेत्र में नोकिया के दबदबे पर सबसे पहला ग्रहण 2011 में पहले एपल और फिर सैमसंग ने लगाया.

नोकिया ने अपने घाटे को रोकने की कोशिशों के तहत पिछले महीने की और 10 हजार लोगों की छंटनी की योजना का एलान किया है. इस तरह कंपनी में नौकरी गंवाने वाले लोगों की कुल तादाद 40 हजार तक पहुंच जाएगी.

नोकिया ने अपने मोबाइल सॉफ्टवेयर सिमबियन को भी धीरे धीरे हटाने का एलान किया जिसकी फोन के लिए तैयार किया गया माइक्रोफोन का ऑपरेटिंग सिस्टम लेगा.

संबंधित समाचार