गूगल में सेंध लगाकर याहू ने बनाया सीईओ

 मंगलवार, 17 जुलाई, 2012 को 08:27 IST तक के समाचार
मरिसा मेयर (फाइल फोटो)

मरिसा के सामने सबसे बड़ी चुनौती कंपनी की गिरती लोकप्रियता को संभालना है.

टेक्नॉलोजी की दुनिया की बड़ी कंपनियों में से एक याहू ने इसी क्षेत्र की एक दूसरी बड़ी कंपनी गूगल की एक प्रमुख अधिकारी को नया सीईओ नियुक्त किया है.

37 साल की मरिसा मायर एक साल के अंदर याहू की तीसरी मुख्य कार्यकारी अधिकारी होंगी.

याहू ने एक बयान जारी किया है जिसमें मरिसा मायर ने कहा है कि वो कंपनी का नेतृत्व करने का मौक़ा पाकर सम्मानित और आनंदित महसूस कर रही हैं.

इसी साल मई के महीने में याहू के तत्कालीन सीईओ स्कॉट टॉमसन को अपनी पढ़ाई के बारे में ग़लत जानकारी देने के आरोप में इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

टॉमसन से पहले कंपनी के सीईओ रहे कैरोल बार्टज़ को सितंबर 2011 में उनके पद से हटा दिया गया था. बार्टज़ ढाई साल तक उस पद पर बने हुए थे.

गूगल और सोशल नेटवर्किंग कंपनी फ़ेसबुक के आने के कारण याहू को काफ़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है.

हालाँकि याहू अब भी अमरीका का सबसे बड़ा वेब पोर्टल है लेकिन जानकारों का कहना है कि नए बाज़ार में वो ज़्यादा लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने में असफल रही है.

"हम दुनिया भर में अपने ग्राहकों और विज्ञापन देने वालों के अनुभवों को और बेहतर बनाने के लिए नई-नई चीज़ लेकर आने और विषय वस्तु में बदलाव करने के लिए कंपनी के समर्पित कर्मचारियों के साथ मिल कर काम करेंगे."

मरिसा मेयर, याहू की नई सीईओ

याहू के शेयर की क़ीमत भी बाज़ार में गिरती जा रही है.

याहू की समाचार सेवा अब भी बहुत लोकप्रिय है लेकिन सर्च इंजन और ई-मेल के मामले में कंपनी को काफ़ी नुक़सान हुआ है. इस वजह से कंपनी के राजस्व में भी काफ़ी कमी आई है.

नई चुनौती

ऐसा माना जा रहा था कि याहू के मौजूदा आंतरिक सीईओ रॉस लेविनसॉन को ही कंपनी का अगला सीईओ बनाया जाएगा लेकिन सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए सोमवार को घोषणा कर दी गई कि मरिसा मायर कंपनी की अगली सीईओ होंगी.

इस घोषणा के बाद मरिसा मायर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ''हम दुनिया भर में अपने ग्राहकों और विज्ञापन देने वालों के अनुभवों को और बेहतर बनाने के लिए नई-नई चीज़ लेकर आने और विषय वस्तु में बदलाव करने के लिए कंपनी के समर्पित कर्मचारियों के साथ मिल कर काम करेंगे.''

याहू कंपनी

याहू को फेसबुक और गूगल से चुनौती का सामना करना पड़ रहा है.

मरिसा मायर किसी बड़ी तकनीकी कंपनी के सीईओ के पद पर पहुंचने वाली कुछ गिनी-चुनी महिलाओं में से एक हैं.

मरिसा मायर ने 1999 में गूगल कंपनी में पहली महिला इंजीनियर के तौर पर ज्वाइन किया था.

कैलिफ़ॉर्निया के स्टैनफ़ॉर्ड विश्वविद्यालय से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करने वाली मरिसा मायर नई-नई बनी गूगल कंपनी की 20वीं कर्मचारी थीं.

गूगल सर्च इंजन और कंपनी का होम पेज बनाने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी.

हाल के दिनों में वो गूगल की मैपिंग सेवा की प्रमुख थीं.

फ़िलहाल वो वॉलमार्ट समेत कई बड़ी कंपनियों के निदेशक मंडल में शामिल हैं और उन्हें जल्द ही याहू के बोर्ड का भी सदस्य बनाया जाएगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.