आयात में बढ़ोतरी, ट्रेड सरप्लस गिरा

चीनी मुद्रा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption चीनी ट्रेड सरप्लस में गिरावट आई है.

अगस्त महीने में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन के आयात में मज़बूत मांग की वजह से 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

आयात में ये इजाफ़ा कच्चे तेल, तांबे और लोह अयस्क की भारी मांग के कारण आया है.

चीन के निर्यात में भी एक-चौथाई बढ़ोतरी दर्ज की गई है. अब चीन का ट्रेड सरप्लस (आयात और निर्यात के बीच का अतंर ) जुलाई के 31 बिलियन अमरीकी डॉलर से घटकर अगस्त में 18 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है.

ट्रेड सरप्लस का ये आंकड़ा राजनीतिक तौर पर काफ़ी संवेदनशील है क्योंकि अमरीका और यूरोप के देश हमेशा ही चीन पर अपनी मुद्रा को जानबूझ कर कमज़ोर रखने का आरोप लगाते रहे हैं ताकि चीनी निर्यातकों को फ़ायदा होता रहे.

लेकिन आईएचएस ग्लोबल इनसाइट के एलिस्टेयर थॉरंटन ने एएफ़पी को बताया है कि सिर्फ़ एक महीने के आंकड़ें चीन के ट्रेड सरप्लस के लगातार कम होने की ओर इशारा नहीं कर सकते.

एलिस्टेयर थॉरंटन ने एएफ़पी को बताया, “ट्रेड सरप्लस में एक माह की गिरावट लगातार गिरावट के बराबर नहीं मानी जा सकती. निर्यात में इजाफ़ा दर्शाता है कि अब भी चीनी अर्थव्यवस्था की गति और मज़बूती बरक़रार है. ”

जानकारों का मानना है कि चीन पर अपनी मुद्रा को कमज़ोर रखने के आरोप लगाने वाले इन आंकड़े की वजह से चीन पर अपना दबाव कम नहीं करेंगे.

संबंधित समाचार