दलाई लामा पर आत्मदाह को उकसाने का आरोप

 बुधवार, 19 अक्तूबर, 2011 को 20:06 IST तक के समाचार
दलाई लामा

दलाई लामा आत्मदाह की निंदा करते रहे हैं क्योंकि बौद्ध धर्म जीवन का सम्मान करता है

चीन सरकार ने आरोप लगाया है कि तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा और उनके समर्थक चीन में रहने वाले तिब्बती बौद्धों के आत्मदाह को प्रोत्साहित कर रहे हैं जो एक तरह का आतंकवाद है.

चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि दलाई लामा और उनके समर्थकों ने चीन के दक्षिण पश्चिमी हिस्से में तिब्बती बौद्धों के प्रदर्शनों को उकसाया है जिनमें हाल के सप्ताहों में नाटकीय रूप से बढ़ोत्तरी हुई है.

चीनी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता जियांग यू ने पत्रकारों को बताया कि चीनी इलाक़ों में होने वाली इन घटनाओं की तिब्बत की स्वतंत्र सेनाओं और दलाई लामा और उनके समर्थकों ने कोई आलोचना नहीं की है बल्कि इसके उलट उन्होंने आत्मदाह की घटनाओं को ना सिर्फ़ महिमामंडित किया है बल्कि और भड़काया है.

प्रवक्ता ने कहा कि सभी जानते हैं कि मानवीय जीवन की क़ीमत पर इस तरह की विघटनकारी गतिविधियों को बढ़ावा देना एक तरह की हिंसा और आतंकवाद ही कहा जाएगा.

दलाई लामा आत्मदाह के चलन की निंदा करते रहे हैं क्योंकि ये बौद्ध धर्म की मान्यताओं के विपरीत है.

विशेषज्ञों का कहना है कि बौद्ध आस्थाओं के अनुसार आत्मदाह जीवन की महत्ता को नकारता है जबकि जीवन का सम्मान करना बौद्ध धर्म के प्रमुख सिद्धांतों में से एक है.

आत्मदाह


इस वर्ष मार्च से अक्तूबर के महीने तक नौ तिब्बती भिक्षु आत्मदाह के प्रयास कर चुके हैं

इस वर्ष मार्च से लेकर अब तक नौ तिब्बती बौद्ध चीन में ख़ुद को आग लगाने की कोशिश कर चुके हैं.

गत सोमवार को एक महिला नन ने भी आत्मदाह कर लिया है.

अभी ये पता नहीं चला है कि बाक़ी आठ लोगों में से कितने लोगों की जान जा चुकी है.

ये लोग धार्मिक स्वतंत्रता और दलाई लामा का निर्वासन समाप्त करते उनकी तिब्बत वापसी की माँग कर रहे थे.

प्रार्थना

इस बीच दलाई लामा ने उत्तरी भारत के धर्मशाला स्थित अपने निवास पर इन नौ तिब्बती बौद्धों के सम्मान में प्रार्थना सभा का आयोजन किया है.

दलाई लामा ने धर्मशाला स्थित मंदिर में व्रत रखा और प्रार्थना सभाओं का आयोजन किया. वहाँ सैकड़ों तिब्बती बौद्ध मौजूद थे.

तिब्बत से मिलने वाले पश्चिमी चीनी इलाक़े में जो कुछ होता है उस पर तिब्बतियों की गहरी नज़र रहती है.

ख़ासतौर से तिब्बत से निर्वासित आध्यात्मिक नेता दलाई लामा भारत में अपने समर्थकों के साथ रहते हैं जहाँ चीन में होने वाली गतिविधियों पर ख़ासी सरगर्मी रहती है.

इस वर्ष मार्च से दलाई लामा और उनके समर्थकों का ज़्यादा ध्यान सिचुआन प्रांत में कीर्ति बौद्ध मठ पर रही है जहाँ तिब्बती भारी संख्या में रहते हैं.

वहाँ भारी सुरक्षा प्रबंधों के बावजूद प्रदर्शन होते रहे हैं. चोरी-छिपे चीन की सीमाओं से बाहर भेजे गए कुछ फ़ोटोग्राफ़ों में नज़र आता है कि कीर्ति बौद्ध मठ में तिब्बती बौद्ध सुरक्षाकर्मियों की भारी मौजूदगी के बावजूद प्रदर्शन कर रहे थे और सुरक्षा बल उन्हें रोकने की कोशिश कर रहे थे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.