वायु प्रदूषण मापने के तरीक़े पर चिंता

बीजिंग इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बीजिंग में प्रदूषण के स्तर को लेकर अमरीकी आँकड़ों और चीन के आँकड़ों में अंतर है

चीन में वायु प्रदूषण पर नज़र रखने वाली प्रणाली में सुधार की बढ़ती माँग के बीच चीन ने निगरानी केंद्र लोगों के लिए खोलने का फ़ैसला किया है.

पर्यावरण विभाग के अधिकारी हुआ लेइ ने उम्मीद जताई कि इस क़दम से लोगों का डर कम करने में मदद मिलेगी.

आधिकारिक आँकड़ों में अक़सर अन्य स्रोतों के मुक़ाबले वायु प्रदूषण का स्तर कम दिखाया जाता रहा है.

पिछले ही हफ़्ते प्रॉपर्टी जगत के जाने-माने नाम पैन शिई ने वेबसाइट के ज़रिए एक अभियान शुरू किया था जिसमें निगरानी की प्रक्रिया को और कड़ा करने पर ज़ोर दिया जा रहा है.

दरअसल अमरीकी दूतावास ने पिछले कुछ समय से प्रदूषण के आँकड़े अपनी ओर से जारी करना शुरू किया है और उसके बाद से चीन सरकार के तरीक़ों पर बीजिंग के लोग काफ़ी चिंतित हो गए हैं.

पिछले हफ़्ते एक समय तो अमरीकी दूतावास के आँकड़ों में प्रदूषण का स्तर 'ख़तरनाक' तक बताया गया था मगर चीनी आँकड़े वायु प्रदूषण को 'मामूली' बताते रहे हैं.

उसके बाद चीनी अधिकारी इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने के लिए अमरीकी दूतावास पर निशाना साधते रहे हैं.

इसके कुछ ही दिनों बाद स्थानीय प्रशासन में पर्यावरण मामलों के विभाग के उप प्रमुख हुआ ने घोषणा की कि निगरानी केंद्र लोगों के लिए खोला जाएगा.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने उनके हवाले से कहा, "बीजिंग के निवासियों का जीवन स्तर बढ़ रहा है और वे लगातार पर्यावरण को लेकर चिंतित हो रहे हैं. हमें उम्मीद है कि इस क़दम से लोगों का डर कम होगा."

दरअसल अमरीकी और चीनी आँकड़ों में ये अंतर इसलिए आया है क्योंकि अमरीका ढाई माइक्रोमीटर से छोटे कण मापता है जबकि चीन के लिए ये 10 माइक्रोमीटर से कम है.

जितने छोटे कण होते हैं उतना ही वह स्वास्थ्य के लिए नुक़सानदायक होता है इसलिए दूतावास के नतीजे कई लोग काफ़ी अहम मानते हैं.

संबंधित समाचार