चीन का सैन्य बजट सौ अरब डॉलर के पार

चीन इमेज कॉपीरइट internet
Image caption माना जाता है कि चीन के बजट में सैन्य विकास पर खर्चों को कम करके दिखाया जाता है

चीन अपने रक्षा बजट में 11.2 फीसदी की बढ़ोत्तरी कर रहा है जिसके बाद उसका सैन्य निवेश 100 अरब डॉलर के भी पार पहुँच गया है.

ये आंकड़े चीन की संसद - नेशनल पीपल्स कांग्रेस में पेश की गई एक बजट रिपोर्ट में दिए गए हैं.

चीन का आधिकारिक तौर पर घोषित रक्षा बजट अमरीका के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बढ़ा सैन्य बजट है. हालांकि रक्षा विशेषज्ञ मानते है कि चीन रक्षा बजट पर घोषित राशि से ज्यादा खर्च करता है..करीब मुताबिक 50 फीसदी तक ज्यादा.

चीन के रक्षा बजट में बढ़ोत्तरी की घोषणा रविवार को संसद के प्रवक्ता ली झाओक्सिंग ने की.

नेशनल पीप्ल्स कांग्रेस में रिपोर्ट पोश करने से पहले ली ने एक पत्रकार वार्ता में कहा, “चीन शांतिपूर्ण विकास के पथ पर अग्रसर है और राष्ट्रीय रक्षा नीति का पालन करता है.”

रॉयटर्स के अनुसार चीन की सरकारी टीवी चैनल पर ली ने कहा, “चीन की आबादी 1.3 अरब है और हमारे देश का क्षेत्रफल विशाल है, लेकिन रक्षा क्षेत्र में हमारा निवेश दूसरे बड़े देशो के मुकाबले कम है.”

'बजट से ज्यादा खर्च'

माना जाता है कि चीन के बजट में सैन्य विकास पर खर्चों को कम करके दिखाया जाता है जिससे बाकी एशियाई देश चिंतित है. अमरीका भी कई अलग-अलग मौकों पर चीन के इरादों को भांपने की कोशिश करता रहा है.

हालांकि अमरीका का रक्षा बजट फिर भी चीन के बजट से काफी ज्यादा है.

संसद के प्रवक्ता ली ने कहा, “साल 2011 में चीन के सकल घरेलु उत्पाद का केवल 1.28 प्रतिशत सैन्य क्षेत्र में खर्च हुआ, जबकि यहीं आंकड़े अमरीका और ब्रिटेन जैसे देशों में दो फीसदी के पार है.”

उन्होंने आगे कहा, “चीन की सीमित सैन्य शक्ति का उद्देश्य देश की संप्रभुता और देश में सुरक्षित माहौल बरकरार रखना है. ये किसी और देश के लिए खतरा नहीं है.”

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एशिया में अपने सहयोगी देशों को ये विश्वास दिलाने कि कोशिश की है कि अमरीका इलाके में अपनी मौजूदगी बरकरार रखेगा. पेंटागन ने कहा है कि वो एशिया-पैसिफिक क्षेत्र में अपनी नीतियों पर काम करेगा.

इधर चीन ने अमरीका के साथ रिश्ते सामान्य करने की कोशिश जारी रखी है. अमरीका में चुनाव और चीन में नेतृत्व परिवर्तन का समय पास आ गया है जिस वजह से दोनों देश अपना ध्यान घरेलू राजनीति पर केन्द्रित करना चाहते है.

संबंधित समाचार