पुलिस ने छुड़वाए 24,000 बच्चे, महिलाएं

चीन में मानव तस्करी
Image caption चीन में बच्चों की तस्करी में बढ़ोत्तरी आई है.

चीन के नागरिक सुरक्षा मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों की माने तो वहां की पुलिस ने 24,000 से ज्यादा अपहृत महिलाओं और बच्चों को छुड़ाया है.

अधिकारियों का कहना है कि अपहृत किए गए बच्चों में से कई बच्चों को बेच दिया गया था या फिर उनसे वेश्यावृति कराने के लिए उन्हें अंगोला जैसी जगहों पर भेज दिया गया था.

मंत्रालय ने कहा है कि मानव तस्करी के खिलाफ वो अपना कड़ा रूख जारी रखेंगे.

हालांकि जारी किए गए आकड़ों में पिछले साल अपहृत किए गए लोगों की कुल संख्या के बारे में नहीं बताया गया है.

सरकार की ओर से जारी किए गए रिपोर्ट में कहा गया कि पुलिस ने 3,196 तस्कर गिरोहों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 8,660 बच्चों और 15,458 महिलाओं को तस्करों की कैद से छुड़ाया.

रिपोर्ट

रिपोर्ट में अंगोला में वेश्यावृति कराने वाले गिरोह पर मारे गए छापे के बारे में विशेष उल्लेख किया गया है. इस छापे में 19 महिलाओं को छुड़वाया गया था और 16 तस्करों को गिरफ्तार किया गया था.

मंत्रालय ने कहा, “चीन की नागरिक सुरक्षा संस्थाएं अपहरणों के खिलाफ अपना अभियान और तल्ख करेगा ताकि ज्यादा से ज्यादा महिलाओं और बच्चों को तस्करों का शिकार होने से बचाया जा सके.”

संवाददाताओं का कहना है कि बच्चों की तस्करी चीन के लिए एक बड़ी समस्या बन कर उभरी है.

पिछले साल दिसंबर में दो तस्कर गिरोहों के खिलाफ कार्रवाई में पुलिस ने 200 बच्चे छुड़ाए. चीन के दस प्रांतों में डाले गए छापों में पुलिस ने 600 लोगों को गिरफ्तार किया.

आलोचक मानते है कि चीन की एक बच्चा प्रति परिवार की नीति और कथित तौर पर सुस्त गोद लेने के कानून की वजह से बच्चों के खरीद फरोख्त के मामलों में बढ़ोत्तरी आई है.

तस्करी करके लाई गई महिलाओं और बच्चों को घरों में नौकर बना कर घरेलु काम करवाने के लिए कई परिवार इन्हे खरीदतें है.

माना जा रहा है कि आर्थिक सुधार नीतियों के लिए चीन में मुक्त तौर पर आने जाने की अनुमति के चलते तस्करी करना आसान हुआ है.

संबंधित समाचार