चीन में माइक्रोब्लॉगिंग के नए नियम लागू

वीबो इमेज कॉपीरइट Weibo
Image caption आलोचकों का कहना है कि नया कानून बोलने की आजादी का हनन करता है.

चीन का नया ब्लॉगिंग कानून इंटरनेट यूजर्स के बीच कई दिनों से चर्चा में है और अब लाखों माइक्रोब्लॉग यूजर्स को अब नए ब्लॉगिंग नियमों का पालन करना पड़ेगा.

चीन के अधिकारी इस कानून से जुड़े कथित अफवाहों पर काबू पाने की कोशिश कर रहें है.

राजधानी बीजिंग के इंटरनेट यूजर्स को ऑनलाइन ब्लॉग छापने के लिए अपने असली पहचान पत्र से रजिस्टर करना पड़ेगा. उम्मीद की जा रही है कि बाकी शहरों में भी जल्द ये कानून लागू कर लिया जाएगा.

चीन की माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट वीबो के करीब 30 करोड़ प्रयोगकर्ता है. ट्विटर के ही समान चर्चित वीबो चीन में खबरों का एक प्रमुख स्रोत है.

आलोचकों का कहना है कि नया कानून बोलने की आजादी का हनन करता है.

चीन में लोग सरकार की नीतियों की आलोचना करने और सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा निकालने के लिए वीबो का प्रयोग करते है.

बीजिंग में इस नए कानून की घोषणा चीन की पुलिस और सूचना एवं संचार मंत्रालय ने पिछले साल दिसंबर मे की थी.

बो जिलाई पर ट्वीट

रजिस्ट्रेशन करने के लिए ब्लॉग प्रयोगकर्ताओं को अपना नाम और मोबाईल नंबर देना होगा, जिसकी पहले जांच की जाएगी. जो प्रयोगकर्ता इस शर्त को पूरा नहीं करेंगे उन्हें ब्लॉग पर पोस्ट नहीं करने दिया जाएगा, वो सिर्फ दूसरे का लिखा हुआ पोस्ट पढ़ पाएंगे.

Image caption शांघाई और ग्वांगझू में भी जल्दी ही ये कानून लागू कर दिए जाएंगे.

चीन की सबसे चर्चित माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट वीबो की मालिक कंपनी सिना कॉर्प ने खबरों के अनुसार सोमवार को कहा कि बीजिंग में उसके करीब 60 फीसदी प्रयोगकर्ता नए कानून के अतर्गत पहले से ही रजिस्टर्ड है.

चीन के शहर शांघाई और ग्वांगझू में भी जल्दी ही ये कानून लागू कर दिए जाएंगे.

देश में माइक्रोब्लॉगिंग साइटों पर कई घोटालो की पोल खोली गई है जिसके बाद चीन के अधिकारियों में बेचैनी दिखी है.

चीन के बड़े नेता बो जिलाई को हटाए जाने की खबर गुरूवार को सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों पर तेजी से फैली थी.

संवाददाताओं का कहना है कि ट्विटर पर खोज में भी बो जिलाई की खबर काफी समय तक शीर्ष पर रही.

चीन के अधिकारियों ने भी कई मौकों पर माइक्रोब्लॉग साइटों की अलोचना की है. उनका मानना है कि ऐसी साइटे अफवाहें फैलाती है.

संबंधित समाचार