चीन: ‘राष्ट्रद्रोह विवाद’ में नया खुलासा

वांग लीजुन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption वांग लीजुन के खिलाफ भी इन दिनों जांच चल रही है.

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक कई वर्षों तक चीन के सबसे बड़े राजनीतिक विवाद का केंद्र रहे पुलिस प्रमुख वांग लीजुन ने अमरीकी उच्चायोग को कुछ जानकारियां उपलब्ध कराने की कोशिश से पहले ब्रिटेन के उच्चायोग से मुलाकात की इच्छा ज़ाहिर की थी.

चेंगडू शहर के अमरीकी दूतावास में वांग के दौरे के बाद कई तरह की बाते कही गई थीं. ये भी कहा गया था कि वो राष्ट्रद्रोह करने वाले हैं. हालांकि सरकारी मीडिया ने कहा था कि वांग थकान मिटाने के लिए वहां गए.

चीनी सरकार के सूत्रों से बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक असल में वांग लीजुन तय कार्यक्रम के हिसाब से चोंगकिंग में मौजूद ब्रिटेन उच्चायोग नहीं पहुंचे और कथित तौर पर इसके बजाय अमरीकी उच्चायोग पहुंच गए.

लीजुन के खिलाफ जांच

माना जाता है कि वांग लीजुन पुलिस प्रमुख के तौर पर ब्रिटेन के नागरिक नील हेवुड की मौत की जांच कर रहे थे और वो मानते थे कि नील की मौत दुर्घटना नहीं थी और इस मामले को छिपाने की कोशिश की जा रही थी.

हालांकि वांग लीजुन की इस कोशिश के बाद उनके बॉस और चीन में एक बड़ी राजनीतिक हस्ती के तौर पर जाने-जाने वाले बो शिलाई को पद से हटा दिया गया है.

वांग लीजुन के खिलाफ भी इन दिनों जांच चल रही है.

बीजिंग में मौजूद बीबीसी संवाददाता डेमियन ग्रमैटिकास के मुताबिक चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़ा से अब तक का सबसे विवादास्पद मामला रहा है.

संबंधित समाचार