चीन का माइक्रो-ब्लॉगिंग जगत 'खामोश'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अफवाह फैलाने के आरोप में चीन के अधिकारियों ने 16 वेबसाइटों को बंद कर दिया है

सरकारी मीडिया के लिए चुनौती के तौर पर उभरा चीन का प्रभावशाली माइक्रो-ब्लॉलिंग जगत तख्तापलट की अफवाह पर सरकार के कड़े रुख के बाद पहली बार एकदम खामोश हो गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, चीन की दो प्रमुख माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट्स वीवो डॉट कॉम और टीक्यूक्यू डॉट कॉम ने टिप्पणियों को प्रकाशित करना बंद कर दिया है.

इन दोनों माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट्स को चीन के ट्विटर के तौर पर जाना जाता है जिसके लगभग तीस करोड़ सब्सक्राइबर हैं. दोनों को ही दंडित किया गया है क्योंकि उन्होंने अफवाहों को फैलने से नहीं रोका था.

टिप्पणियों पर रोक

दोनों माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट्स ने शनिवार को टिप्पणियों के प्रकाशन पर रोक की घोषणा की जो 31 मार्च से तीन अप्रैल तक जारी रहेगी.

इस दौरान वे अपने साइट्स से अफवाहों और दूसरी गैर-कानूनी सूचनाओं को हटाएंगे. उन्होंने जिन टिप्पणियों और तस्वीरों को प्रकाशित किया था, उनमें वे तस्वीरें भी शामिल हैं जिनमें लड़ाकू टैंकों को बीजिंग की सड़कों पर दौड़ते दिखाया गया था.

ऐसी ही तस्वीरों की वजह से तख्तापलट की अटकलों का बाजार गर्म हो गया था. इसके बाद चीन के अधिकारियों ने 16 वेबसाइटों को बंद कर दिया और इंटरनेट पर अफवाह फैलाने के आरोप में छह लोगों को हिरासत में लिया.

संबंधित समाचार