उइगुर अलगाववादियों का प्रशिक्षण

शिनजियांग इमेज कॉपीरइट AP
Image caption क्षेत्र में मुस्लिम अलगाववाद को लेकर लंबे समय से आंदोलन जारी है.

चीन ने शिनजियांग सूबे के एक अलगाववादी गुट से ताल्लुक रखने वाले छह लोगों की संपत्ति 'फ्रीज़' करने के हुक्म जारी किए हैं और दूसरे मुल्कों से उन्हें गिरफ्तार कर चीन को सौंपने का आग्रह किया है.

चीनी पुलिस ने शुक्रवार को इन छह लोगों के नाम जारी किए. ये लोग उइगुर के निवासी बताए जाते हैं जहां पिछले कुछ सालों से मुस्लिम अलगाववादी आंदोलन जारी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार चीन के नागरिक सुरक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि इन लोगों ने 'दक्षिण एशिया के एक देश में' कुछ समय व्यतीत किया जहां खबरों के मुताबिक उन्होंने आतंकवादी हमलों और आत्मघाती बम विस्फोट करने का प्रशिक्षण हासिल किया.

बयान में कहा गया है कि इन छह लोगों का संबंध प्रतिबंधित पूर्वी तुर्किस्कान इस्लामी मूवमेंट से है.

पाकिस्तान

मंत्रालय के बयान में खासतौर पर एक दक्षिण एशियाई देश के जिक्र को परोक्ष रूप से पाकिस्तान की तरफ किए गए संकेत की तौर पर देखा जा रहा है.

समाचार एजेंसी शिनुआ ने नागरिक सुरक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी के हवाले से कहा है, "मंत्रालय को उम्मीद है कि विदेशी हूकुमतें और उनके संगठन इन छह व्यक्तियों की गिरफ्तारी में मदद करेंगे और उन्हें चीनी प्रशासन को सौंप देंगे."

अधिकारी ने कहा है, "ये ग्रुप चीन की सुरक्षा के लिए सीधे-सीधे एक खतरा हैं."

प्रेस कांफ्रेस के दौरान जब सवाल किया गया कि क्या नागरिक सुरक्षा मंत्रालय की ओर से जारी बयान में जिस देश का जिक्र है उसका संकेत पाकिस्तान की तरफ है तो चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता खुंग ले ने कहा कि ये सवाल संबंधित मंत्रालय से पूछा जाना चाहिए.

लेकिन साथ ही प्रवक्ता ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सूची में ईटीआईएम को एक आतंकवादी संगठन के तौर पर माना गया है और वो एक ऐसा संगठन है जिसने अपराध और हिंसा की वारदातें की हैं.

दूसरी बार

एक महीने के दौरान ये दूसरी बार है जब शिन जियांग के चरमपंथियों के मामले में पाकिस्तान का जिक्र हुआ है.

हाल में ही शियजियांग क्षेत्रीय प्रशासन के अध्यक्ष नूर बेकरी ने संसद सत्र से इतर कहा कि पूर्वी तुर्किस्तान के गुटों के हजारों कड़ियां हैं.

नूर बेकरी ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार ने भी चीन की संप्रभुता और हितों की सुरक्षा पर सहमति जताई है.

संबंधित समाचार