चीन: नील हेवुड की हत्या की पूरी जांच होगी

 बुधवार, 18 अप्रैल, 2012 को 16:07 IST तक के समाचार
बो शिलाई

बो शिलाई कम्यूनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी थे जिन्हें हाल ही में अनुशासन के उल्लंघन के आरोप में हटा दिया गया था.

चीन ने कहा है कि वो एक ब्रितानी नागरिक की मौत के सिलसिले में देश के एक बड़े सियासतदान की भूमिका की पूरी जांच करेगा.

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने अपने संपादकीय में लिखा है कि बो शिलाई नाम के इस राजनीतिज्ञ और उनकी पत्नी की नील हेवुड की हत्या के सिलसिले में जांच, कम्यूनिस्ट पार्टी की कानून के लिए प्रतिबद्धता दिखाता है.

ये संपादकीय डेविड कैमरन द्वारा ब्रिटेन के दौरे पर आए एक चीनी अधिकारी के सामने नील हेवुड की हत्या का मामला उठाए जाने के बाद आया है.

चीन के सरकारी समाचार माध्यमों में ऐसे कई लेख छपे हैं.

नील हेवुड की हत्या 15 नवंबर 2011 को चोंगक़िंग शहर में हुई थी जहां बो शिलाई कम्यूनिस्ट पार्टी के नेता हुआ करते थे.

पार्टी से निकाले जा चुके बो शिलाई के खिलाफ़ ‘गंभीर अनुशासनिक उल्लंघनों’ और उनकी पत्नी गु कैलाई पर ‘हत्या का संदेह’ होने पर जांच चल रही है.

‘कानून से ऊपर नहीं‘

बो शिलाई स्कैंडल

  • 2 फरवरी: चोंगक़िंग पुलिस के प्रमुख वांग लिजुन का पद कम किया गया, ये संकेत था कि शहर में कम्यूनिस्ट पार्टी के प्रमुख बो शिलाई उनसे संतुष्ट नहीं हैं
  • 6 फरवरी: वांग लिजुन नज़दीकी शहर चेंगडू के अमरीकी वाणिज्यिक दूतावास में छिप गए. वहां वे रात भर रहे. कई लोगों को लगा वे शरण लेने गए हैं
  • 5 मार्च: चीन ने घोषणा की कि बो शिलाई को चोंगकिंग पार्टी प्रमुख के पद से हटा दिया गया है.
  • 20 मार्च: ऐसी अफ़वाहें उड़नी शुरू हो गईं कि बो शिलाई ब्रितानी व्यवसायी नील हेवुड की हत्या से जुड़े हो सकते हैं.
  • 26 मार्च: ब्रितानी सरकार से स्वीकार किया कि उन्होंने चीन से हेवुड की हत्या की दोबारा जांच का आग्रह किया है
  • 10 अप्रैल: चीन ने कहा कि बो शिलाई को पार्टी के पदों से हटा दिया गया है और उनकी पत्नी पर हेवुड की हत्या के सिलसिले में पूछताछ की जा रही है.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के संपादकीय में कहा गया है कि पार्टी ने इससे जुड़े मामलों की पूरी जांच करने और इसके बारे समय समय जाने जानकारी साझा करने का दृढ़ निश्चय किया है.

संपादकीय कहता है कि इस कदम से ज़ाहिर है कि पार्टी ‘साम्यवादी कानून की रक्षा करने, अनुशासन के उल्लंघन के हर मुद्दे के विरुद्ध कदम उठाने और भ्रष्टाचार को सहन ना करने के प्रति दृढ़ संकल्प है.

बीबीसी संवाददाता मार्टिन पेसेंस के अनुसार हाल के दिनों में बो शिलाई के पतन पर सरकारी मीडिया में कई लेख छपे हैं.

लेकिन ये स्कैंडल बीजिंग में अक्तूबर में होने वाले नेतृत्व परिवर्तन से पहले सामने आया है.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार कुछ लोगों के लग रहा है कि पार्टी बो शिलाई को हटाए जाने के जायज़ ठहराने के लिए कानूनी दावपेंच का सहारा ले रही है.

राजनीति में उलझा हत्या का मामला?

इस बीच ब्रिटेन ने चीन से नील हेवुड की हत्या के सिलसिले में बिना हस्तक्षेप के पूरी जांच करने को कहा है.

ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने ये मुद्दा चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी के पोलितब्यूरो सदस्य ली चांगचुन के साथ अपने कार्यालय में मुलाकात के दौरान भी उठाया है. कैमरन ने उन्हें ये भी कि ब्रिटेन हत्या की जांच में चीन की हर ज़रुरी सहायता करने को तैयार है.

शुरू में चीनी अधिकारियों ने ब्रितानी दूतावास को बताया था कि नील हेवुड की मौत अधिक मात्रा में शराब पीने से हुई है. इसके बाद ब्रिटेन ने चीन से इस हत्या की दोबारा जांच करने का आग्रह किया था.

चीन से आ रही अपुष्ट ख़बरों के अनुसार हेवुड की मौत साइनाइड ज़हर के सेवन से हुई है.

चीन के सरकारी मीडिया में आई ख़बरों के अनुसार बो शिलाई की पत्नी गु कैलाई और उनके नौकर झांग शियाजुन को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.