चीन में फँसे व्यापारियों को कृष्णा का आश्वासन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption एस एम कृष्णा ने कहा है कि वे चीनी विदेश मंत्री से व्यापारियों के बारे में बात करेंगे (फ़ाइल तस्वीर)

भारतीय विदेश मंत्री एस एम कृष्णा ने चीन में एक वित्तीय विवाद के बाद फँसे दो भारतीय व्यापारियों को मदद का भरोसा दिलाया है.

शंघाई सहयोग सम्मेलन की शिखर बैठक में भाग लेने बीजिंग गए भारतीय विदेश मंत्री दोनों व्यवसायियों – श्याम सुंदर अग्रवाल और दीपक रहेजा – से मुलाकात की.

दोनों व्यवसायियों को यिवू शहर में चीन के आपूर्तिकर्ताओं ने एक विवाद के बाद अवैध तौर पर बंधक बना लिया था और उन्हें भारत सरकार के हस्तक्षेप के बाद रिहा करवाया जा सका.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार विदेश मंत्री ने कहा है कि वे इस मामले को चीनी विदेश मंत्री के साथ गुरूवार को होनेवाली मुलाकात में उठाएँगे.

एस एम कृष्णा ने कहा,"मैंने उनसे कहा कि मैं चीनी विदेश मंत्री यांग जेइची से मुलाकात में उनकी बात जरूर करूँगा."

कृष्णा इससे पहले भी इस मुद्दे पर चीनी विदेश मंत्री से बात कर चुके हैं.

व्यापारी

दोनों व्यापारियों का कहना है कि वे एक कंपनी के लिए काम करते थे जिसका मालिक यमनी नागरिक था और वो लोगों का भुगतान किए बिना भाग गया.

इसके बाद पिछले साल दिसंबर में स्थानीय व्यापारियों ने दोनों भारतीयों को बंधक बना लिया.

बाद में सरकार के हस्तक्षेप के बाद उन्हें जनवरी में छुड़ाया गया.

इसके बाद से वे दोनों शंघाई में रह रहे हैं और यात्रा पाबंदी के कारण भारत नहीं लौट सकते.

भारत-चीन वार्ता

एस एम कृष्णा ने शंघाई सहयोग संगठन की बैठक से पहले बुधवार को चीन के उपराष्ट्रपति ली काचियांग से मुलाकात की.

समझा जा रहा है कि ली काचियांग चीन के अगले प्रधानमंत्री बन सकते हैं.

दोनों नेताओं ने लगभग 45 मिनट की बातचीत में द्विपक्षीय रिश्तों के बारे में चर्चा की.

बैठक के बाद ली काचियांग ने कहा कि हालाँकि भारतीय विदेश मंत्री शंघाई सहयोग संगठन की बैठक के लिए आए थे मगर ये मौका आपसी संबंधों पर चर्चा का एक अच्छा अवसर होता है.

भारतीय विदेश मंत्री ने हाल ही में हुए चीन के राष्ट्रपति हु जिंताओ के भारत दौरे को याद किया जो ब्रिक्स सम्मेल में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली गए थे.

एस एम कृष्णा गुरूवार को चीनी विदेश मंत्री यांग जेइची से मुलाकात करेंगे.

संबंधित समाचार