बो शिलाई ने ‘बिगाड़ी’ चीन की छवि

 सोमवार, 18 जून, 2012 को 16:50 IST तक के समाचार
जांग डेजिआंग

जांग डेजिआंग ने कहा है कि बो शिलाई प्रकरण से चीन की छवि को बारी दक्का लगा है.

चीन के शहर चोंगकिंग में कम्युनिस्ट पार्टी के नए प्रमुख जांग डेजिआंग ने कहा है कि बो शिलाई प्रकरण से देश और कम्युनिस्ट पार्टी की छवि को 'भारी नुकसान' पहुंचा है.

जांग डेजिआंग ने ये बयान नगर निकाय की एक बैठक में दिया. इसे अक्तूबर में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में होने वाले बड़े नेतृत्व परविर्तन से जोड़कर भी देखा जा रहा है.

चोंगकिंग में पार्टी के पूर्व प्रमुख बो शिलाई को पार्टी का अनुशासन तोड़ने के आरोप में मार्च में बर्खास्त कर दिया गया था.

ब्रितानी व्यवसायी नील हेवुड की मौत के मामले में बो शिलाई की पत्नी की भूमिका संदिग्ध है.

शिलाई प्रकरण

माना जाता है कि बो शिलाई प्रकरण पिछले कई वर्षों में चीन का सबसे बड़ा राजनीतिक संकट थी. इस प्रकरण से कम्युनिस्ट पार्टी में भीतरी मतभेद भी जगजाहिर हुई थी.

"रितानी व्यवसायी नील हेवुड और वांग लिजुन का मामला कॉमरेड बो शिलाई के अनुशासन से जुड़ी समस्याओं को जाहिर करता है. इससे देश और पार्टी की छवि को काफी नुकसान पहुंचा है."

जांग डेजिआंग

इसी साल मार्च में शिलाई की जगह लेने वाले जांग ने कहा कि चोंगकिंग की पार्टी समिति के काम करने के तरीके में कई अनियमित्ताएं थी.

सरकारी न्यूज वेबसाइट पर छपे जांग डेजिआंग के बयान के मुताबिक, ''ब्रितानी व्यवसायी नील हेवुड और वांग लिजुन का मामला कॉमरेड बो शिलाई के अनुशासन से जुड़ी समस्याओं को जाहिर करता है. इससे देश और पार्टी की छवि को काफी नुकसान पहुंचा है. साथ ही इससे चोंगकिंग में हो रहे सुधार कार्यों में भी बाधा पहुंची है.''

लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि पिछले पांच वर्षों में चोंगकिंग में हुए सुधार कार्यों को बो शिलाई प्रकरण से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

जांग ने कहा कि इस बात को ध्यान में रखे जाने की जरूरत है कि कानून के सामने सभी एक है और उससे ऊपर कोई नहीं है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.