क्यूबाई राष्ट्रपति रउल कास्त्रो चीन में

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रउल कास्त्रो ने चीनी राष्ट्रपति हु जिंताओ के साथ मुलाक़ात की और कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए

क्यूबा के राष्ट्रपति रउल कास्त्रो इन दिनों चीन के दौरे पर हैं जहाँ उन्होंने चीनी नेताओं के साथ मुलाकात की है और कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं.

क्यूबा और चीन के बीच पहले से ही नजदीकी संबंध हैं और रउल कास्त्रो की यात्रा से दोनों देशों के संबंधों के और मधुर होने की बात कही जा रही है.

उन्होंने गुरूवार को राष्ट्रपति हु जिंताओ से मुलाक़ात की थी और शुक्रवार को वो उपराष्ट्रपति शी जिन्पिंग और उपप्रधानमंत्री ली केचियांग से मिलेंगे.

शी जिन्पिंग को चीन का भावी राष्ट्रपति और ली केचियांग को चीन का भावी प्रधानमंत्री समझा जा रहा है.

रउल कास्त्रो 2008 में अपने भाई फिडेल कास्त्रो से नेतृत्व लेने के बाद पहली बार चीन का दौरा कर रहे हैं.

इससे पूर्व चीन के उपराष्ट्रपति शी जिन्पिंग पिछले साल हवाना गए थे.

समझौते

क्यूबाई राष्ट्रपति ने अपने चार दिवसीय दौरे में गुरूवार को हु जिंताओ से मुलाक़ात की और आपसी सहयोग के कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए.

हालाँकि इन समझौतों का कोई ब्यौरा नहीं दिया गया है मगर चीन की सरकारी समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार हु जिंताओ ने क्यूबा से व्यापार, ऊर्जा, बुनियादी ढाँचा निर्माण, कृषि और जैव तकनीक के क्षेत्र में और सहयोग का आह्वान किया है.

चीन ने क्यूबा को वित्तीय कर्ज़ और स्वास्थ्य व तकनीक के क्षेत्र में मदद के लिए संकल्प व्यक्त किया है.

रउल कास्त्रो ने कहा,"हमें बेहद खुशी है कि हाल के वर्षों में चीन और क्यूबा के संबंध लगातार गहरे और बढ़ते जा रहे हैं."

चीन, वेनेज़ुएला के बाद चीन क्यूबा का दूसरा सबसे बड़ा सहयोगी है.

रउल कास्त्रो चीन के बाद वियतनाम का भी दौरा करेंगे.

संबंधित समाचार