'ऐ दिल है मुश्किल' मामले पर सुलह!

इमेज कॉपीरइट DHARMA PRODUCTION
Image caption फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' होगी तय समय पर रिलीज़.

फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज़ पर उठे विवाद को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फ़डनवीस, निर्माता करण जौहर और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे के बीच शनिवार को मुलाक़ात हुई है.

फ़िल्म प्रॉड्यूसर्स गिल्ड के अध्यक्ष मुकेश भट्ट भी इस मुलाकात में शामिल थे.

एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे ने कहा है कि 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज़ को लेकर विरोध वापस लेते हैं.

वहीं महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने भी इस बैठक के बाद प्रेस वार्ता में बताया कि उन्होंने बैठक में तीन मांगे रखीं.

Image caption महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे

उनके मुताबिक, '' एमएनएस की पहली मांग है कि फ़िल्म की शुरुआत में उड़ी और इससे पहले शहीद हुए जवानों के लिए श्रद्धांजलि संदेश दिया जाए. दूसरी मांग हैं कि फ़िल्म निर्माता लिखित में दें कि भविष्य में पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम नहीं करेंगे. और तीसरी कि पाकिस्तानी कलाकारों को लेने वाले निर्माता सेना वेलफ़ेयर फंड में पांच करोड़ रुपए दें."

राज ठाकरे कहा, ''आज तक कई बम धमाके हुए, मुकेश भट्ट और करण जौहर से मैंने कहा कि पाकिस्तान में वो आपकी फ़िल्में, आपकी सामग्री पर रोक लगाते हैं तो क्यों आप पाकिस्तानी कलाकारों के लिए रेड कार्पेट बिछाते हैं.''

वहीं मुकेश भट्ट ने बैठक के बाद कहा, ''बैठक सकारात्मक रही. मैंने फ़िल्म इंडस्ट्री की भावनाएं रखीं कि हम पहले भारतीय हैं, हमारे लिए भारतीय संवेदनाएं सबसे अहम हैं. राज ठाकरे भी इस बैठक में थे. लोगों, सैनिकों और पूरे देश की संवेदनाओं को ध्यान में रखते हुए गिल्ड ने फ़ैसला किया है कि हम पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम नहीं करेंगे. हम गिल्ड की बैठक बुलाकर इस प्रस्ताव को मंज़ूरी देंगे.''

उन्होंने कहा, ''करण जौहर ने प्रस्ताव रखा है कि वो उड़ी के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक संदेश फ़िल्म शुरू होने से पहले दिखाएंगे. वे फ़िल्म की शुरूआत में अपने पिता को श्रद्धांजलि देने से पहले शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे. ''

हाल में भारत और पाकिस्तान के बीच पैदा तनाव के बाद कुछ ओर से मांग उठी थी कि बॉलीवुड में पाकिस्तानी कलाकारों को काम न मिले.

फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' पाकिस्तानी अभिनेता फ़वाद ख़ान को लेकर विवाद में फंस गई थी.

इमेज कॉपीरइट CRISPY BOLLYWOOD

भट्ट ने कहा कि फ़िल्म अपनी तय तारीख़ यानी 28 अक्तूबर को रिलीज़ होगी.

मुकेश भट्ट के मुताबिक़ फ़िल्म चले या ना चले सेना के वेलफ़ेयर फंड में भी करण जौहर और अन्य निर्माता ने योगदान देने का फ़ैसला किया है.

उन्होंने बताया, ''इसके लिए कोई दबाव नहीं था, ये फ़ैसला स्वेच्छा से किया है क्योंकि सैनिकों ने देश के लिए जान दिया है, उसके बदले में ये छोटा सा योगदान है.''

उन्होंने कहा, ''सारा विवाद ख़त्म हो गया है. चरमपंथ की वजह से एक भारतीय का दूसरे भारतीय से जो विवाद हुआ था वो ख़त्म होगा. अब ए दिल है मुश्किल तय समय पर रिलीज़ होगी. हम सबको दिवाली की शुभकामनाएं देते हैं.''

इमेज कॉपीरइट DHARMA PRODUCTIONS
Image caption मुकेश भट्ट के मुताबिक करण जौहर ने कहा कि फ़िल्म में उड़ी के शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे.

मुंबई के एक थिएटर में फ़िल्म की स्क्रिनिंग पर एमएनएस के कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया था जिसके बाद एमएनएस के 12 कार्यकर्ताओं को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था.

बॉलीवुड की कई सिनेमा एसोसिएशन में से एक 'सिनेमा ओनर्स एंड एक्ज़िबिटर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया' ने पाकिस्तानी कलाकारों की फ़िल्म अपने सिनेमाघरों में नहीं दिखाने की घोषणा की थी.

फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' में ऐश्वर्या राय बच्चन, रनबीर कपूर, अनुष्का शर्मा के साथ पाकिस्तानी अभिनेता फ़वाद ख़ान भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)